Benami Property: बेनामी संपत्ति मामले में ED का बड़ा एक्शन, नोएडा के इस नामी मॉल को अपने कब्जे में लिया; बिल्डरों में हड़कंप
topStories1hindi1459076

Benami Property: बेनामी संपत्ति मामले में ED का बड़ा एक्शन, नोएडा के इस नामी मॉल को अपने कब्जे में लिया; बिल्डरों में हड़कंप

ED News: बेनामी संपत्ति के खिलाफ बड़ा एक्शन लेते हुए ED ने शनिवार को नोएडा के नामी मॉल के बड़े हिस्से को अपने कब्जे में ले लिया. जिस जमीन को ईडी ने कुर्क किया है, उसकी मार्केट कीमत 65 करोड़ रुपये बताई जा रही है.

Benami Property: बेनामी संपत्ति मामले में ED का बड़ा एक्शन, नोएडा के इस नामी मॉल को अपने कब्जे में लिया; बिल्डरों में हड़कंप

ED Action Against Benami Property: बेनामी संपत्ति मामले में ED ने यूनिटेक ग्रुप (Unitech Group) के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. ED ने नोएडा सेक्टर-38ए में बने गार्डन गैलेरिया मॉल (Garden Galleria Mall) के 40% हिस्से को अपने कब्जे में ले लिया है. जब्त किए गए इस एरिया का क्षेत्रफल 1 लाख 40 हज़ार वर्ग मीटर है. वहीं बाजार में इस जमीन की कीमत 65 करोड़ 32 लाख रुपये बताई जा रही है. ईडी इस मामले में अब तक यूनिटेक ग्रुप की 1132.55 करोड़ की सम्पति कुर्क कर चुकी है.

विदेशी कंपनी में किया बेनामी संपत्ति का निवेश

सूत्रों के मुताबिक यूनिटेक ग्रुप ने वर्ष 2007- 08 में बेनामी संपत्ति को विदेशी कंपनी में निवेश किया था. उस साल ग्रुप (Unitech Group) ने विदेशी कंपनी में 8 मिलियन डालर का निवेश किया था. इसके साथ ही नोएडा के सबसे कीमती इलाके में गार्डन गैलेरिया मॉल (Garden Galleria Mall) भी शुरू किया गया. ED की जांच में अब तक 6500 करोड़ के लेनदेन के सबूत मिल चुके है. जबकि बाकी सबूतों को एजेंसी के अधिकारी खंगालने में लगे हैं.

गिरफ्तार हो चुके हैं यूनिटेक को प्रमोटर

बेनामी संपत्ति के इस मामले में यूनिटेक (Unitech Group) के प्रमोटरों संजय चंद्रा, अजय चंद्रा, रमेश चंद्रा, प्रीती चंद्रा और राजेश मालिक को गिरफ्तार हो चुके हैं और फिलहाल जेल में हैं. दिल्ली की तिहाड़ जेल में लग्जरी सुविधाएं मिलने के सबूत मिलने पर सुप्रीम कोर्ट ने कड़ा एक्शन लेते हुए यूनिटेक को प्रमोटरों को मुंबई की जेल में शिफ्ट कर दिया. तब से सभी आरोपी वहीं बंद हैं और जेल की सजा काट रहे हैं.

आखिर किन लोगों का है ये अरबों रुपया?

सूत्रों के मुताबिक ED के अधिकारी इस सवाल का जवाब तलाशने में लगे हैं कि विदेशी कंपनी में निवेश के लिए यूनिटेक ग्रुप (Unitech Group) के पास अरबों रुपये का भंडार कहां से आया. एजेंसी को शक है कि यह काला धन भ्रष्ट कारोबारियों, राजनेताओं और अफसरों का है, जिसे विदेशी कंपनी में निवेश की आड़ में सफेद करने की कोशिश की गई है. अकूत ब्लैक मनी बटोरने वाले वे सफेदपोश कौन हैं, अब ईडी अधिकारी उनकी तलाश में लगे हैं.

(इनपुट बलराम पांडेय)

(पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi, अब किसी और की जरूरत नहीं)

Trending news