गुजरात सरकार का बड़ा फ़ैसला, राज्य के सभी सीमावर्ती चेक पोस्ट हटाई जाएंगी

RTO चालान को भी 20 तारीख से ई-चालान कर दिया जाएगा.

गुजरात सरकार का बड़ा फ़ैसला, राज्य के सभी सीमावर्ती चेक पोस्ट हटाई जाएंगी
हर मोबाइल चेकिंग कर्मचारी को बॉडी कैमरा से लैस किया जाएगा. (फाइल फोटो)

अहमदाबाद: गुजरात सरकार ने राज्य के सभी सीमावर्ती चेक पोस्ट हटाए जाने का बड़ा फैसला लिया है. चेक पोस्ट के लिए ऑनलाइन टैक्स और फीस का भुगतान करना होगा. अगर टैक्स नहीं भरा तो मालिक से वसूला जाएगा. इसके अलावा भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए सभी कमर्शियल व्हिकल को टैक्स ऑनलाइन भरना होगा.
 
सरकार के फैसले के तहत लाइसेंस रिन्यू या किसी बदलाव की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन कर दी गई है. लाइसेंस का काम आरटीओ कार्यालय से होता था मगर अब इसे 221 आईटीआई कार्यालय में शुरू किया जाएगा.

लर्निंग लाइसेंस के लिए 15 नवंबर से आईटीआई में लर्निंग लाइसेंस जारी किया जाएगा. 25 नवंबर से लर्निंग लाइसेंस राज्य सरकार द्वारा 29 पॉलिटेक्निक में संचालित किया जाएगा. लाइसेंस और वाहन सेवाओं के लिए आरटीओ कार्यालय जाना पड़ता था, लेकिन अब घर बैठे ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

अब वाहन पंजीकरण, फैंसी नंबर, विशेष परमिट, टेम्पररी परमिट, वाहन एनओसी, एक्स और शुल्क भुगतान सहित 25 लाख से अधिक लोग आरटीओ कार्यालय में आए बगैर घर बैठे सेवाओं का लाभ उठा पाएंगे.

वाहन चालक लाइसेंस रिन्यू, डुप्लिकेट ड्राइविंग लाइसेंस, ड्राइविंग लाइसेंस की जानकारी, ड्राइवर के लाइसेंस के प्रतिस्थापन, वाहन के लिए डुप्लीकेट आरसी, वाहन से संबंधित जानकारी के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

तमाम चेक पोस्ट 20 तारीख से बंद कर दिए जाएंगे. ऑनलाइन के साथ ऑफलाइन भी सेवा भी चालू रहेंगी. इसे आरटीओ कार्यालय द्वारा ऑफलाइन लिया जा सकता है. 25 तारीख के बदले 20 तारीख से चेकपोस्ट निकल जाएंगे.

RTO चालान को भी 20 तारीख से ई-चालान कर दिया जाएगा. भ्रष्टाचार घटाने के लिए यह कदम उठाया गया है. 8 राज्यों से गुजरात में ट्रक या भारी वाहन आते हैं.  अब बाहर से आने वाली ट्रक का भी ऑनलाइन पेमेंट किया जाएगा. पक्के लाइसेंस के लिए भी ई-टेस्ट हो पाए वैसी व्यवस्था की जा रही है. इसके लिए टेंडर भी निकाले गए हैं.

मोबाइल चेकिंग की जाएगी और हर मोबाइल चेकिंग कर्मचारी को बॉडी कैमरा से लैस किया जाएगा. वेबसाइट की बहुत सारी चीजों को पूरा करने के लिए भी व्यवस्था की जाएगी.

सीएम विजय रूपाणी ने कहा कि पुलिस चौकी अलग है और आरटीओ चौकी अलग है, इसलिए शराबबंदी के बारे में पूछे गए सवालों का कोई जवाब ही नहीं है.