close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पी. चिदंबरम के खिलाफ कार्रवाई पर क्या रही तमाम राजनेताओं की प्रतिक्रिया, एक Click में जानें यहां

कांग्रेस पार्टी इस पूरे मामले पर केन्द्र की मोदी सरकार और जांच एजेंसियों पर निशाना साध रही है वहीं दूसरी ओर बीजेपी ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा है कि कांग्रेस और भ्रष्टाचार एक ही सिक्के के दो पहलू हैं.

पी. चिदंबरम के खिलाफ कार्रवाई पर क्या रही तमाम राजनेताओं की प्रतिक्रिया, एक Click में जानें यहां
पी. चिदंबरम (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: आईएनएक्स मीडिया केस से जुड़े भ्रष्टाचार और धनशोधन के मामलों में सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किए गए वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को सीबीआई के अलावा प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी गिरफ्तार करेगी.  ईडी के अधिकारियों के मुताबिक सीबीआई की चिदम्बरम से पूछताछ पूरी होने के बाद ED भी उन्हें गिरफ्तार करेगी और मामले में पूछताछ करेगी. दरअसल दोनों ही एजेंसी INX मीडिया केस की जांच कर रही हैं. बुधवार को सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद चिदंबरम को रात भर सीबीआई मुख्यालय में रखा गया. आज दोपहर 2 बजे चिदंबरम को राउज एवेन्यू में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में पेश किया जाएगा. इस पूरी कार्यवाही पर विभिन्न दलों के राजनेताओं के मिले-जुले रिएक्शन आ रहे हैं. यहां हम आपके लिए कुछ प्रमुख राजनेताओं द्वारा दिए गए बयानों को पेश कर रहे हैं.

कांग्रेस पार्टी इस पूरे मामले पर केन्द्र की मोदी सरकार और जांच एजेंसियों पर निशाना साध रही है वहीं दूसरी ओर बीजेपी ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा है कि कांग्रेस और भ्रष्टाचार एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. इस बीच यह खबर भी सामने आई थी कि इस बारे में राहुल गांधी और प्रियंका गांधी जल्द ही एक प्रेस कांफ्रेंस कर सकते हैं. पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम ने इस मामले पर कहा, "मेरे पिता मुखर हैं. उनको चुप कराने की कोशिश की गई है. 2008 का केस 2017 में एफआईआर. 4 बार रेड की गई." इसके आगे उन्होंने कहा, "इसके द्वारा केवल मेरे पिता का टार्गेट नहीं किया जा रहा है, बल्कि कांग्रेस पार्टी का टार्गेट किया जा रहा है. मैं विरोध करने के लिए जंतर-मंतर जाऊंगा."

बीजेपी के प्रमुख नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने इस पूरे मामले पर अपनी राय रखते हुए कहा, "कांग्रेस और करप्शन एक-दूजे के लिए बने हुए हैं. सबको पता है. कानून और कोर्ट पर पॉलिटिकल पलीता लगाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए." वहीं दूसरी ओर बीजेपी के अन्य वरिष्ठ नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा, "चिदंबरम वकील हैं. उन्हें मालूम था कि कानून के हवाले करना चाहिए था. छिपना... सीधा दरवाजा खोल देते तो क्या सीबीआई को कूद कर जाने की जरुरत पड़ती. सीधे दरवाजा खोल कर बताते. अपने आप को हवाले कर देते. पूरा देश देख रहा है. कांग्रेस की इस हरकत ने देश को शर्मसार किया है. कार्ति को मालूम होना चाहिए कि अभी बहुत ऐसे केस सामने आने वाले हैं. जांच होगी. इश्यू भटकेगा नहीं."

हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने इस मामले पर अपनी राय प्रकट करते हुए एक ट्वीट किया है. अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा है, "चिदंबरम की गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस डरी-डरी सी व मरी-मरी सी नजर आ रही है." इसी मामले में एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है, "आईएनएक्स भ्रष्टाचार मामले में महाबुद्धिमान पूर्व वित्तमंत्री पी चिदम्बरम फरार कांग्रेस में हाहाकार." केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा, "सभी के लिए कानून समान है. जो गलत करते हैं वे कानून से डरते हैं." बीजेपी नेता सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा, "चिदंबरम संवैधानिक पदों पर रहे हैं. सोनिया राहुल पर भी सवाल खड़ा होता है. कल तक ये लोग चौकसी, माल्या और नीरव मोदी पर भी सवाल खड़े करते थे."

वहीं दूसरी ओर इस मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने कहा, "यह जो कुछ भी हुआ बहुत ही दुखद है, कानून के प्रति जवाबदेह नहीं होने का कोई सवाल ही नहीं था. यह मामला शुक्रवार को सूचीबद्ध किया गया है, वे तब तक इंतजार कर सकते थे कि सुप्रीम कोर्ट क्या करना चाहता है." वहीं महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता राजू वाघमारे ने कहा, "सुप्रीम कोर्ट ने अगर उन्हें शुक्रवार तक का समय दिया है तो सीबीआई को इतनी जल्दी क्यों थी. शर्म आनी चाहिए ऐसी जांच एजेंसी को. जिस इस तरह के अंदाज में काम कर रहे हैं. ये सब करने की क्या जरुरत है. लोकतंत्र का खून बीजेपी ने सीबीआई के हाथों किया है. संविधान को जानने वाले को.... सीनियर वकील हैं... कुछ तो इज्जत बख्श दो. सीबीआई का नाम चार्जशीट में तो है नहीं. उन्हें हिरासत में लिया गया है. गिरफ्तार नहीं किया गया है."

बागपत से बीजेपी सांसद सत्यपाल सिंह ने मीडिया के सामने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा, "चिदंबरम जी पूर्व केन्द्रीय वित्त और गृह मंत्री हैं, वह एक बुद्धिजीवी हैं और कानून को जानते हैं. उन्हें अदालत के आदेश के बाद इस तरह का व्यवहार नहीं करना चाहिए था. जो हुआ वह अच्छा नहीं था, क्या उन्होंने पहले आत्मसमर्पण किया था, उनकी गरिमा बरकरार रहेगी."

वरिष्ठ वकील और कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "कानूनी बिरादरी के सदस्यों के रूप में यह हमारे लिए बहुत चिंता का विषय है, यह नागरिकों के लिए भी चिंता का विषय होना चाहिए. हम सब चाहते थे कि एक सुनवाई हो, पीठासीन न्यायाधीश ने इसके बजाय यह कहा कि मैं सीजेआई को फाइल भेज रहा हूं. क्या कोई नागरिक सुनवाई का हकदार नहीं है?" वहीं वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने मीडिया पर निशाना साधते हुए कहा, "आप लोग सेंसेशनलाइज़ कर रहे हैं." 

डीएमके नेता ए राजा ने इस पूरे मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "यह राजनीति से प्रेरित है." यूपी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा, "आप विचारों से भिन्न हैं और बीजेपी स्नान नहीं किया तो आप लोगों के पीछे छोड़ दिए जाएंगे. आप लोग 6 साल से कीर्तिन कर रहे हैं. बीजेपी की सरकार कभी पाक का नाम लेती है. वहीं कर्नाटक कांग्रेस के नेता रिजवान अरशद ने भी बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा, "यह पॉलिटिकल वेंडेटा है."