चिदंबरम News

alt
कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने मंगलवार (16 मई) दो विपक्षी नेताओं कांग्रेस नेता पी चिदंबरम और राजद नेता लालू प्रसाद की संपत्तियों पर छापेमारी की. इसके साथ ही व्यापारियों की संपत्तियों पर भी छापेमारी की गई. ये कार्रवाई कथित भ्रष्टाचार और बेनामी संपत्तियों पर कई शहरों में की गई छापेमारी के जरिए की गई. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और आयकर विभाग की तलाशियों की विपक्ष ने केंद्र द्वारा ‘राजनैतिक प्रतिशोध’ के तहत की गई कार्रवाई बताकर निंदा की. कांग्रेस ने कहा कि वह प्रतिशोध की राजनीति से नहीं डरेगी, जो सरकार के डीएनए में है. हालांकि, राजग सरकार ने पलटवार करते हुए कहा कि आज का दिन ‘भ्रष्टों’ के लिए जवाबदेही का है. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने तलाशियों का दृढ़तापूर्वक बचाव किया. उन्होंने कहा कि ‘हिसाब-किताब’ के दिन आ गए हैं और इस तरह के लोगों (भ्रष्ट) को उनके कुकृत्यों के लिए जवाबदेह ठहराया जाएगा.
May 17,2017, 8:14 AM IST
alt
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदम्बरम ने आज आईटी कानून की धारा 66 ए को असंवैधानिक ठहराये जाने संबंधी शीर्ष अदालत के फैसले का स्वागत किया और कहा कि इस धारा को ठीक से तैयार नहीं किया गया था और उसका दुरूपयोग हुआ । चिदम्बरम ने कहा, ‘मैं उच्चतम न्यायालय के उस फैसले का स्वागत करता हूं जिसमें आईटी कानून की धारा 66 ए को असंवैधानिक ठहराया गया है ।’ उन्होंने कहा, ‘कानून की इस धारा को सही तरीके से तैयार नहीं किया गया था और यह दोषपूर्ण थी । इसका दुरूपयोग संभव था और वास्तव में इसका दुरूपयोग हुआ ।’ पूर्व मंत्री ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के दुरूपयोग के मामले हो सकते हैं और ऐसे मामलों से सामान्य कानून से निपटा जाना चाहिए ।
Mar 24,2015, 14:27 PM IST
Read More

Trending news