close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PoK में हालात खराब हैं, लोग वहां नहीं रहना चाहते: सत्यपाल मलिक

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satyapal Malik) ने कहा कि PoK में हालात खराब हैं. PoK के लोग वहां नहीं रहना चाहते. इमरान पीओके के लोगों को भड़काना चाहते हैं. इसके साथ ही उन्होंने जम्मू-कश्मीर के विकास की प्रतिबद्धता भी दोहराई.

PoK में हालात खराब हैं, लोग वहां नहीं रहना चाहते: सत्यपाल मलिक
(फाइल फोटो)

जम्मू: जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में धारा 370 हटाए जाने के बाद जनजीवन एक बार फिर सामान्य हो चला है. शनिवार को जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satyapal Malik) ने एक सरकारी अस्पताल का उद्घाटन किया. कार्यक्रम के दौरान जनता को संबोधित करते हुए सत्यपाल मलिक ने कहा कि PoK में हालात खराब हैं. PoK के लोग वहां नहीं रहना चाहते. इमरान पीओके के लोगों को भड़काना चाहते हैं. इसके साथ ही उन्होंने जम्मू-कश्मीर के विकास की प्रतिबद्धता भी दोहराई. उन्होंने कहा, "जम्मू कश्मीर का विकास करना है, जो जरूर होगा."

जम्मू-कश्मीर के मौजूदा राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Jammu Kashmir Governor Satyapal Malik) ने कहा, "जो निर्भाग्य होता है वो भरी हुई खीर की थाली में लात मरता है. अगर हम कुछ नहीं लेते तो यह हमारा निर्भाग्य है. दिल्ली (Delhi) का हर मंत्रालय (Ministry) अपना पिटारा यहां खोले बैठा है, आप जाइए और लीजिए."

उन्होंने आगे कहा, "जब मैंने चार्ज लिया था तब प्रधानमंत्री (Prime Minister) जी ने कहा था कि कश्मीर (Kashmir) को इतना चमका दो की PoK के लोग बॉर्डर पार कर के इधर आना चाहें और बोलें यह है हमारा जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir). अगर हमने तरक्की कर दी तो वहां के लोग भाग लेंगे इतनी बुरी स्थिति में है PoK. तो मैं आप लोगों से यही निवेदन करना चाहता हूं, आप लोग नेताओं पर दवाब बना कर रखिए."

देखें लाइव टीवी

देश के गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) के बारे में बात करते हुए सत्यपाल मलिक ने कहा, "कभी सुना है कि होम मिनिस्टर बैठ कर पंचायतों की बात सुन रहा हो. वो अमित शाह (Amit Shah) जिसके नाम से नेताओं का दम निकलता है, वो बैठ कर पंचायतों की बैठक ले रहा है. दिल्ली की दरवाजा आपके लिए खुला है. ऐसा कभी नहीं हुआ."

सेब (Apple) खरीदी को लेकर सरकार की प्लानिंग बताते हुए उन्होंने आगे कहा, "जो सेब कश्मीर के किसानों (Apple Farmers) से 3 रुपये किलो लिया जाता था वो सेब 15 रुपये किलो सरकार खरीदेगी. और उसमें भी देखिए पाकिस्तान (Pakistan) के खरीदे हुए लोग उनको धमका रहे हैं. मैंने उनको समझया कि यह ख़त्म हो ना हो पर तुम जरूर ख़त्म हो जाओगे."