पीएम मोदी ने 'सौभाग्य योजना' का किया शुभारंभ, मार्च 2019 तक सबको बिजली का लक्ष्य

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद जनता के लिए 8 अहम योजनाओं की घोषणा की

पीएम मोदी ने 'सौभाग्य योजना' का किया शुभारंभ, मार्च 2019 तक सबको बिजली का लक्ष्य
पीएम मोदी ने सहज बिजली योजना का शुभारंभ किया (फोटो- एएनआई)

नई दिल्ली: भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के अंतिम दिन सोमवार (25 सितंबर) को पीएम नरेंद्र मोदी देश की आम जनता को कई अहम सौगातें दी. प्रधानमंत्री मोदी ने गरीबों के कल्याण के लिए 8 बड़ी योजनाओं का ऐलान किया. पीएम मोदी ने सौभाग्य योजना का शुभारंभ किया. इस योजना के गांव और शहर के हर घर को बिजली देने की योजना है. इस योजना के तहत 500 रुपये लेकर बिजली दी जाएगी. इसके साथ ही 200-300 वीपी सोलर पावर पैक दिए जाने की योजना है. यदि बिजली की सप्लाई नहीं पहुंची तो उसके विकल्प के तौर पर सोलर पैक दिया जाएगा. जिसमें 5 एलईडी बल्ब, बैटरी, एक पंखा होगा. इसके खराब होने की स्थिति में पांच साल तक मरम्मत का खर्च सरकार उठाएगी.  सरकार का लक्ष्य है कि 31 मार्च 2019 तक हर घर को बिजली दी जाएगी. इस योजना से 3 करोड़ परिवारों को फायदा होगा. दिवाली से पहले मोदी ने हर घर को रौशन करने का तोहफा दिया है. इस योजना के तहत हर घर को 24 घंटे बिजली मिलेगी.

पीएम मोदी ने कहा कि आज देश को दीन दयाल ऊर्जा भवन मिला. बहुत सी चीजे मुझे मेरे नसीब से मिली हैं. पीएम मोदी ने कहा हमारी सरकार की हर योजना में गरीब कल्याण दिखेगा. उन्होंने कहा कि किसने सोचा था कि गरीबों के बैंक खाते खुलेंगे. गरीबों के बीमा होंगे. आज हवाई चप्पल पहनने वाला हवाई जहाज में उड़ा रहा है. पीएम मोदी ने कहा आज से प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना का शुभारंभ हो रहा है. आजादी के बाद भी 4 करोड़ से ज्यादा परिवार ऐसे हैं जहां बिजली नहीं है. यानि जनसंख्या का 20 प्रतिशत हिस्सा. ये लोग आज भी अठारहवीं शताब्दी में गुजारा कर रहे है. 125 साल हो चुके हैं बल्ब का अविष्कार हुए लेकिन आज भी हमारे देश के 4 करोड़ घरों में मोमबत्ती जल रही है. पीएम मोदी ने कहा कि मैंने भी मिट्टी के तेल से जलने वाली बत्ती से पढ़ाई की.

बिना बिजली के जिंदगी कैसी होती है ये कल्पना करना भी कठिन है. सौभाग्य योजना के तहत सरकार देश के हर ऐसे घर में जहां बिजली नहीं है चाहे वो कहीं भी हो उसे बिजली देना हमारा लक्ष्य है. किसी गरीब से बिजली का शुल्क नहीं लिया जाएगा. जिस गरीब को सरकारी दफ्तरों के लिए चक्कर लगाने पड़ते थे. लेकिन अब सरकार खुद उनके घर जाकर बिजली देगी. इसमें 16 हजार करोड़ का खर्च आएगा. इसका बोझ किसी गरीब पर नहीं डाला जाएगा. दीन दयाल उपाध्याय ने कहा था कि सरकार की योजनाओं की परख और पड़ताल इस आधार पर होनी चाहिए कि उससे गरीबों को कितना लाभ हुआ है. आज मुझे खुशी है कि उनकी जयंती पर इतनी बड़ी योजना का शुभारंभ हो रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि पुराने ढर्रे से काम नहीं होते हैं. कुछ परिवर्तन करते हुए हैं नई गति पकड़नी होती है. ये योजना पिछले तीन वर्षों में किए गए केंद्र सरकार के कार्यों की एक प्रति है. पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार से पहले कोयला संकट, बिजली फेल होने की खबरें आती थी. याद करिए, क्या अब आपने ऐसी खबरें देखी है. पीएम मोदी ने कहा कि देश बिजली संकट को पीछे छोड़कर बिजली सरप्लस हो रहा है

पीएम मोदी ने कहा कि ये सब बहुआयामी कदम उठाए जाने से हुआ है. पीएम मोदी ने कहा कि हमने प्रोडक्शन बढ़ाने पर जोर दिया गया, कोयला, हाईड्रो और न्यूक्लियर सभी पर काम शुरू हुआ. पिछले तीन वर्षों में कोयले का उत्पादन  93 मिलीयन बढ़ा है. कोयले के उत्पादन में हुई वृद्धि पिछली सरकार के पांच सालों में हुई वृद्धि से डेढ़ गुना अधिक है. जिस कोयले का घोटला हुआ उसी क्षेत्र में हमने बेहतर काम करके दिखाया है. कोयला निलामी के काम में पारदर्शिता आई है. शक्ति नाम से नई कोयला आवंटन नीति बनाई गई है. पीएम ने कहा कि अब बिजली के लिए कोयले की कमी नहीं है. 2016  सौर ऊर्जा 2.44 के मिनिमम टैरिफ पर मिली है. पीएम मोदी ने कहा कि ऊर्जा के क्षेत्र में पावर डिस्ट्रिब्यूशन सिस्टम को मजबूत करने के लिए सरकार ने 2016 में उदय योजना की शुरुआत की थी.

अब बिजली डिस्ट्रिब्यूशन कंपनियों ने 23 हजार 500 करोड़ रुपये की राशि बचाई है. 2017 में इन कंपनियों का नुकसान 42 फीसद कम हुआ है.  देश भर में पावर डिस्ट्रिब्यून सेक्टर में सरकार ने जो नीतियां बनाई है उसका असर 'ईज ऑफ डूईंग बिजनेस' पर पड़ा है. अमेरिका की स्पेज एजेंसी नासा ने अंतरिक्ष से भारत का चित्र लिया था जिसमें भारत जगमगा रहा था. इससे पहले भी भारत का एक चित्र नासा ने लिया था जिसमें भारत में अंधेरा छाया था.  पीएम मोदी ने कहा कि एलईडी बल्ब फरवरी 2014 की 310 रुपये थी. आज 40 रुपये है. उजाला योजना के तहत लोगों को मुफ्त एलआईडी बल्ब बांटे गए. पीएम मोदी ने कहा कि पारदर्शिता और जवाबदेही सरकार की प्राथमिकता है. देश की ऊर्जा जरूरत को पूरा करने में हाईड्रो कार्बन की भी अहम भूमिका है.  सरकार पर्यावरण की रक्षा को लेकर कर्तव्यबद्ध है. सरकार के वर्क कल्चर में बदलाव से पूरा एनर्जी सेक्टर मजबूत हो रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि उज्ज्वला योजना की तरह सौभाग्य योजना भी महिलाओं की जिंदगी में रोशनी लाएगी.  

पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज एक चुनौती का काम आपसे करना चाहता हूं. पीएम मोदी ने कहा कि इलैक्ट्रिक कार से दुनिया जुड़ चुकी है. मैं चाहूंगा कि ओएनजीसी देश के युवाओं को आह्वान करें, इनोवेशन के लिए आह्वान करें, बिजली से चलने वाला चूल्हा बनाए. जिस पर हर प्रकार की रसोई बन सके. अगर ऐसा हुआ तो लोग सोलर एनर्जी से चूल्हा जलाएंगे. पीएम मोदी ने कहा कि जैसे कार पर रिसर्च हो रहे है उसी प्रकार इलैक्ट्रिक चूल्हे को लेकर कुछ करके दिखाईये. जिस भी नौजवान के पास इसे लेकर कोई आइडिया हो वो मेरे पास आएं और सुझाव दें.

 इसके पहले पीएम मोदी ने  ही पीएम मोदी ने ओएनजीसी के कॉर्पोरेट ऑफिस में दीन दयाल ऊर्जा भवन का उद्घाटन किया. इस मौके पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और बिजली राज्य मंत्री आरके सिंह भी मौजूद थे. दोनों नेताओं के साथ पीएम मोदी ने ऊर्जा भवन का निरीक्षण किया. पीएम मोदी ने कहा कि मुझे इस बिल्डिंग का लोकार्पण करते हुए बहुत खुशी हो रही है.

 

  • 'सौभाग्य' योजना  'सहज बिजली हर घर योजना' 
  • प्रधानमंत्री मिट्टी तेल के विकल्प की घोषणा करेंगे
  • शिक्षा सेवा में सुधार की घोषणा
  • स्वास्थ्य सेवा में बड़ा सुधार
  • संचार के क्षेत्र में विकास
  • नागरिक सुरक्षा पर योजना
  • महिलाओं के अच्छे जीवन के लिए घोषणा
  • रोजगार को बढ़ाने केलिए लेकर घोषणा

इस आशय की जानकारी वित्त मंत्री अरुण जेटली ने दी. उन्होंने कहा है कि देश ने भाजपा को बहुत दिया है अब भाजपा की बारी है. इसी क्रम में पीएम मोदी राष्ट्र को नई सौगात देंगे. भाजपा ने एक ट्वीट के जरिए भी प्रधानमंत्री के इन नए योजनाओं के बारे में जानकारी दी. बिजली मंत्री आर के सिंह ने 22 सितंबर को कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी घरों को सातों दिन 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने के लिये 25 सितंबर को योजना की घोषणा करेंगे. 25 सितंबर आरएसएस विचारक पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती भी है.

इससे पहले दिल्ली में बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक में पीएम मोदी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा था कि बिना जन भागीदारी के योजनाएं सफल नहीं हो सकती. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस को पीएम के भाषण के बारे में बताया. जेटली ने कहा कि पीएम ने पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को कहा कि हमें यह तय करना है कि योजनाएं जमीन पर उतरें और लोगों को उनका लाभ मिले. जेटली ने बताया कि प्रधानमंत्री ने बेतुके बयान देने वाले बीजेपी नेताओं को हिदायत देते हुए कहा कि टीवी की माइक देखकर कुछ भी बोल देने से पार्टी के नेताओं को बचाना चाहिए. वित्त मंत्री ने कहा कि पीएम मोदी ने कार्यकारिणी की बैठक में कहा कि देश ने बीजेपी को बहुत कुछ दिया अब हमारी जिम्मेदारी है. पीएम ने कहा विपक्ष के लिए सत्ता उपभोग का साधन है. लेकिनहमारे लिए सत्ता सेवा है, सुख का साधन नहीं. पीएम मोदी ने कहा कि अमित शाह ने चुनाव जीतने के बाद 28 राज्यों का दौरा किया. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस को बताया कि पीएम मोदी शाम को 6.30 बजे गरीबों के कल्याण की योजनाओं का ऐलान करेंगे.