अजीत जोगी की पत्नी और बेटे ने निभाई ये परंपरा, 27वें रोजे को दी इफ्तार की दावत

रमजान के महीने में अजीत जोगी की तरफ से हर साल बंगले में 27वें रोजा के दिन इफ्तार की दावत दी जाती थी. अब जब अजीत जोगी वेंटिलेटर के जरिए सांसे ले रहे हैं तो ऐसे मुश्किल वक्त में भी उनकी परंपरा को जारी रखा जा रहा है.

अजीत जोगी की पत्नी और बेटे ने निभाई ये परंपरा, 27वें रोजे को दी इफ्तार की दावत
अजीत जोगी की सेहत के लिए की गई कामना

रायपुर: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी पिछले 12 दिनों से अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं. राज्य भर में उनके कई समर्थक और शुभचिंतक हैं, जो अपने-अपने तरीके से उनके स्वस्थ्य के लिए कामना कर रहे हैं. उनके कई शुभचिंतक धार्मिक अनुष्ठान के माध्यम से उनकी सेहत के लिए दुआ मांग रहे हैं.

बता दें कि रमजान के महीने में अजीत जोगी की तरफ से हर साल बंगले में 27वें रोजा के दिन इफ्तार की दावत दी जाती थी. अब जब अजीत जोगी वेंटिलेटर के जरिए सांसे ले रहे हैं तो ऐसे मुश्किल वक्त में भी उनकी परंपरा को जारी रखा जा रहा है. उनके परिवार के सदस्य और कुछ शुभचिंतकों ने अस्पताल से विशेष अनुमति ली और अस्पताल परिसर में ही अजीत जोगी के नाम से इफ्तार की दावत दी.

ये भी पढ़ें-छत्तीसगढ़ में लगातार बढ़ रही कोरोना संक्रमितों की संख्या, राज्य में एक्टिव केस 73 हुए

इस दावत में चुनिंदा 10 लोगों को बुलाया गया. जिनमें मुस्लिम वर्ग के लोगों के अलावा कुछ अन्य लोग भी शामिल थे. इस दौरान रेणु जोगी, अमित जोगी समेत लोरमी विधायक धर्मजीत सिंह, बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा, पूर्व विधायक आरके राय, प्रदेश महामंत्री महेश देवांगन, राहिल रउफी सहित अन्य मौजूद रहे. सबने मिलकर अजीत जोगी की सेहत के लिए दुआ मांगी.

बता दें कि कार्डिक अरेस्ट के बाद से ही अजीत जोगी कोमा में चल रहे हैं. उन्हे लगातार वेंटिलेटर पर रखा जा रहा है. उनके दिमाग में गतिविधि ना के बराबर है. जिसके कारण उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है. डॉक्टरर्स उनकी स्थिति सामान्य करने में जुटे हुए हैं.

Watch LIVE TV-