काम की खबरः आपको फ्रॉड से बचाने 1 जनवरी से लागू हो जाएंगे चेक पेमेंट के नए नियम

1 जनवरी 2021 से चेक पेमेंट के नए नियम लागू हो रहे हैं. आरबीआई ने इन नियमों को लागू करने के निर्देश सभी बैंकों को दे दिए हैं. आप भी जानिए चेक पेमेंट के नए नियम

काम की खबरः आपको फ्रॉड से बचाने 1 जनवरी से लागू हो जाएंगे चेक पेमेंट के नए नियम
सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्लीः रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बढ़ते बैंकिंग फ्रॉड को रोकने के लिए अब एक और कदम उठाया है. अब 1 जनवरी 2021 से चेक पेमेंट(Cheque Pament) के नियम बदलने वाले हैं.  नए नियमों के अनुसार अब 50 हजार रुपए के चेक पेमेंट पर पॉजिटिव पे (Positive Pay) सिस्टम फॉलो करना होगा. ताकि बड़े भुगतान वाले सभी चेको को बैंक दोबारा से रीचेक कर सके और धोखाधड़ी को रोका जा सके. 

बैंक भेजेगा अलर्ट मैसेज 
आरबीआई ने सभी बैकों को निर्देश दिए हैं कि 1 जनवरी से लागू होने वाले चेक पेमेंट के नए नियमों की सारी जानकारी ग्राहकों तक पहुंचा दी जाए. इसके लिए सभी सरकारी और प्राईवेट बैंक अपने ग्राहकों को एसएमएस अलर्ट( Sms Alert) और ऑनलाइन बैंकिंग (Online banking) के जरिए पूरी जानकारी उपलब्ध कराएगा.   

ये भी पढ़ेंः 23 साल बाद महिला को मिली विधवा पेंशन, मंत्री ने पैरों पर सिर रखकर लिया आशीर्वाद

ऑटोमेटेड फ्रॉड का पता लगाता है पॉजिटिव पे सिस्टम 
दरअसल, पॉजिटिव पे सिस्टम (Positive pay system)एक प्रकार का टूल होता है. जो ऑटोमेटेड फ्रॉड (Automated fraud) का पता लगाता है. ताकि ऑनलाइन फ्रॉड से बचा जा सके. आरबीआई ने पॉजिटिव पे  सिस्टम को और अपग्रेड करवाया है. 1 जनवरी 2021 से जो पॉजिटिव पे सिस्टम का अपग्रेड वर्जन के तहत ही नए नियमों को लागू करवाया जा रहा है. यह सिस्टम अब कस्टमर को चेक पेमेंट में होने वाले फ्रॉड से बचाएगा. 

चेक जारी होने पर दोबारा देनी हो पूरी जानकारी 
पॉजिटिव पे सिस्टम के नए नियमों के अनुसार इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से अगर कोई भी व्यक्ति कोई चेक जारी करता है. तो चेक नंबर, खाता संख्या, प्राप्तकर्ता और रकम के साथ पूरी जानकारी चेक जारी होने के बाद सभी डिटेल दोबारा से पॉजिटिव पे सिस्टम पर भरनी पड़ेगी. जिसके बाद बैंक पूरी जानकारी को दोबारा चेक करेगा और उसमें सभी जानकारी सही होगी तो ही चेक अप्रूव किया जाएगा. 

कैसे काम करेगा नया सिस्टम 
नए नियमों के अनुसार 50 हजार रुपए से ऊपर के चेक पेमेंट के नए पॉजिटिव पे सिस्टम के तहत जो डिटेल दोबारा मांगी जाएगी. ये डिटेल सेंट्रालाइज्ड पॉजिटिव पे सिस्टम में अपलोड होगी. जिसके बाद यह चेक जब बैंक को मिलेगा, बैंक इस चेक को वेरिफाई करेगा. अगर चेक की सारी डिटेल दोबारा दी गई जानकारी से मैच हो जाएगी तो ही बैंक इस चेक का पेमेंट करेगा. लेकिन अगर चेक की डिटेल मेच नहीं हुई तो बैंक पेमेंट रोक देगा. यानि यह सिस्टम चेक पेमेंट को क्रॉस चेक कर सुरक्षित करेगा. ताकि ऑनलाइन बैंकिग में धोखाधड़ी न हो सके. यह नियम नए साल से लागू हो जाएंगे. 

ये भी पढ़ेंः मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग का फैसला, 20 फरवरी तक टाले गए नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव

WATCH LIVE TV