close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुषमा स्वराज के निधन पर CM कमलनाथ ने व्यक्त किया शोक, बोले- 'हम दोनों में भाई-बहन का रिश्ता था'

'विवाद होते थे, उनका नजरिया, दृष्टिकोण कई चीजों से अलग था. हमारे मतभेद होते थे, लेकिन बड़े प्यार और सरल तरीके से उसका सामना करते थे.'

सुषमा स्वराज के निधन पर CM कमलनाथ ने व्यक्त किया शोक, बोले- 'हम दोनों में भाई-बहन का रिश्ता था'
मैं मानता हूं कि केवल राजनीतिज्ञ नहीं समाजसेविका अब हमारे बीच नही है: CM कमलनाथ

नई दिल्लीः पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शोक व्यक्त किया है. सुषमा स्वराज के निधन पर दुख जाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि 'सुषमा जी के निधन की खबर दुखद है. उनसे बहुत पुराना संबंध था. सुषमा स्वराज से मेरा भाई बहन का सम्बंध था. जब मैं केंद्र में संसदीय कार्य मंत्री था तब वो नेता प्रतिपक्ष थी. लगभग रोज उनके साथ बैठने का, चर्चा करने का, विवाद करने का मौका मिलता था. विवाद होते थे, उनका नजरिया, दृष्टिकोण कई चीजों से अलग था. हमारे मतभेद होते थे, लेकिन बड़े प्यार और सरल तरीके से उसका सामना करते थे. मैं मानता हूं कि केवल राजनीतिज्ञ नहीं समाजसेविका अब हमारे बीच नही है.

बता दें पूर्व विदेश मंत्री और विदिशा रायसेन संसदीय क्षेत्र की सांसद रहीं सुषमा स्वराज के निधन की खबर के बाद रायसेन जिले में शोक की लहर है. जिला मुख्यालय पर व्यापार महासंघ द्वारा आज शोक स्वरूप बाजार बंद रखा गया है. नगर की गंज बाजार सराफा बाजार, किराना मार्केट सहित सभी छोटी-बड़ी दुकानें सुबह से बंद रहीं. लोगों ने अपनी प्रिय सांसद सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि स्वरुप आज बाजार बंद कर याद किया.

देखें लाइव टीवी

बता दें सुषमा स्वराज 10 साल तक लगातार विदिशा रायसेन सीट से सांसद रहीं, वह 2009 में 3 लाख से अधिक वोटों से जीत कर लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष बनीं. वहीं 2014 में क्षेत्र की जनता ने उन्हें 4 लाख से अधिक वोटों से जीताया. जिसके बाद नरेंद्र मोदी की सरकार में भारत की विदेश मंत्री बनीं. विदेश मंत्री बनने के बाद भी सुषमा जी का क्षेत्र से सीधा संपर्क बना रहा. कई बार लंबे समय तक क्षेत्र में ना आने पर वह फोन पर लोगों से क्षेत्र की समस्याएं पूछकर उन्हें हल कर दिया करती थीं. 

सुषमा की इस तस्वीर को दुनिया ने किया था सलाम, वैश्विक मंच पर दिखा था नारी सशक्तिकरण

उनके कार्यकाल में कभी किसी प्रकार की बजट की समस्या सामने नहीं आई, रायसेन में एनएच 146 मार्ग, सेंट्रल स्कूल, पॉलिटेक्निक कॉलेज सहित ग्रामीण क्षेत्रों में पक्की सड़कों की सौगात देकर रायसेन जैसे पिछड़े जिले को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने का प्रयास किया. रायसेन के लोगों को हमेशा गर्व रहेगा कि देश की ओजस्वी वक्ता और लोकसभा में सशक्त आवाज कही जाने वाली सुषमा स्वराज उनकी 10 साल तक सांसद रहीं. अब लोग उनके कार्यकाल को याद कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं. 

सुषमा स्‍वराज को श्रद्धांजलि देते वक्‍त भावुक हुए पीएम मोदी, अंतिम संस्‍कार में होंगे शामिल

23 अप्रैल 2019 को चुनाव प्रचार के दौरान रायसेन आना उनका आखिरी दौरा रहा. इस दौरान उन्होंने अपने चुनाव न लड़ने की घोषणा करते हुए अपने उत्तराधिकारी के रूप में वर्तमान सांसद रमाशंकर भार्गव को जनता से मिलवाया और उन्हें आशीर्वाद देकर जनता की सेवा करते रहने का वचन दिलाया था.