मध्यप्रदेश उपचुनाव में गोडसे की एंट्री, हिंदू महासभा ने की गोडसे मूर्ति स्थापना की घोषणा

 महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की मूर्ति फिर होगी स्थापित.15 नवंबर को हिंदू महासभा कार्यालय में नाथूराम गोडसे की स्थापित की जायेगी मूर्ति.

मध्यप्रदेश उपचुनाव में गोडसे की एंट्री, हिंदू महासभा ने की गोडसे मूर्ति स्थापना की घोषणा
फाइल फोटो

ग्वालियर: गोडसे को देशभक्त बताकर भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा फंस गई थीं. विवाद बढ़ने के बाद उन्हें माफी तक मांग ली थी. लेकिन अब मध्यप्रदेश ग्वालियर चंबल अंचल के उपचुनाव में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की एंट्री हो गयी है. ग्वालियर जिले में हिंदू महासभा ने नाथूराम गोडसे की मूर्ति स्थापित करने की चेतावनी दे दी है. 

जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन
अखिल भारतीय हिंदू महासभा द्वारा 15 नंवबर को नाथूराम गोडसे के पुण्यतिथि के दिन मूर्ति स्थापित करने की अनुमति स्थानीय प्रशासन से मांगी गई है इसके साथ ही हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने गोरखी स्थित एसडीएम कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और मांग की कि 2017 में जो मूर्ति हिंदू महासभा ने अपने निजी कार्यालय पर लगाई थी जिसे बाद में प्रशासन ने जप्त कर लिया था वह मूर्ति वापस की जाए.

पुरानी मूर्ति की मांग 
हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ जय वीर भारद्वाज का कहना हैं कि 2017 में हमने पूर्ति स्थापित करने का प्रयास किया था लेकिन कांग्रेस के विरोध के चलते शिवराज सरकार ने इस मूर्ति को जब्त करा दिया था. वह मूर्ति हमें वापस चाहिए हम हर काम संविधान के हिसाब से करना चाहते है. यही कारण है कि पहले भी अनुमति मांगी गई थी और अब एक बार फिर अनुमति मांगी जा रही है यदि अनुमति नहीं दी गई तब भी यह मूर्ति वहां स्थापित की जाएगी.

''अभी तो मैं जवान हूं'', बोलकर- मंच से कूद पड़े कमलनाथ, जानिए फिर क्या हुआ?

कांग्रेस हुई हमलावार
कांग्रेल इस मामले पर बीजेपी पर हमलावर हो गई है कांग्रेस कह रही है कि उपचुनाव में विकास और मूलभूत सुविधाओं के मुद्दे बीजेपी के पास बचे नहीं है इसलिए वह हिंसक विचारधारा को बढ़ावा देने का काम कर रहे है. उन्होंने कहा कि बीजेपी यदि इस विचारधारा का समर्थन नहीं करती है तो इस तरह की मांग करने वाले आतंकवादी की श्रेणी में आने वाले लोगों पर आखिर बीजेपी कार्यवाही करने से क्यों कतरा रही है?

बीजेपी करेगी कार्रवाई 
बीजेपी के प्रवक्ता राजेश सोलंकी का कहना है कि वह हिंसक विचारधारा या गोडसे की मूर्ति लगाने के पक्ष में बिल्कुल नहीं है यदि कोई व्यक्ति या संगठन इस तरह की मांग करता है तो बीजेपी निश्चित तौर पर उस पर कार्रवाई करेगी.

19 मई को मनायी थी जंयती
नाथूराम गोडसे की पूजा-पाठ हिंदू महासभा के कार्यालय में की गई थी. हिंदू महासभा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने नाथूराम की 111वीं जयंती पर 111 दीपक जलाए थे. इसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के ट्वीट के बाद ग्वालियर जिला प्रशासन हरकत में आया था मामले को लेकर कलेक्टर और पुलिस अधिकारियों कार्रवाई की योजना भी बनाई थी.

351 साल पुराना वो कागज जिससे शुरू हुआ काशी विश्वनाथ- ज्ञानवापी मस्जिद विवाद

तीन साल पहले भी हुआ था विवाद
इससे पहले साल 2017 में हिंदू महासभा ने गोडसे की मूर्ति को स्थापति किया था. उस वक्त भी कांग्रेस ने काफी हंगामा किया था. 7 दिन बाद गोडसे की मूर्ति को प्रशासन ने जब्त कर लिया था. 

WATCH LIVE TV