close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देशभर में आंधी-तूफान से गई 39 लोगों की जान, PM मोदी की रैली के लिए लगाए गए टेंट उड़े

राजस्थान में आंधी-तूफान की वजह से 9 लोगों की मौत हुई है, जबकि मध्य प्रदेश में 13 लोगों की जान गई है. रिपोर्ट के मुताबिक, देशभर में आंधी तूफान से 39 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है, जबकि कई लोग घायल बताए जा रहे हैं.

देशभर में आंधी-तूफान से गई 39 लोगों की जान, PM  मोदी की रैली के लिए लगाए गए टेंट उड़े
फाइल फोटो

नई दिल्ली : देश के कई इलाकों में आंधी तूफान ने कहर बरपाया है. मंगलवार देर रात देश के ज्यादातर शहरों में तेज आंधी और बारिश के साथ ओले गिरे हैं. राजस्थान में आंधी-तूफान की वजह से 9 लोगों की मौत हुई है, जबकि मध्य प्रदेश में 13 लोगों की जान गई है. रिपोर्ट के मुताबिक, देशभर में आंधी तूफान से 39 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है, जबकि कई लोग घायल बताए जा रहे हैं. मंगलवार के बाद बुधवार को भी मौसम विभाग ने देश के कई हिस्सों में आंधी-तूफान का अलर्ट जारी किया है. 

प्रधानमंत्री मोदी की रैली के लिए लगाए गए टेंट उड़े
गुजरात के साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर शहर में 17 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली के लिए लगाए गए टेंट का एक हिस्सा धूल भरी आंधी के कारण क्षतिग्रस्त हो गया. स्थानीय बीजेपी नेताओं ने बताया कि टेंट का कुछ हिस्सा या तो उड़ गया या फट गया. उन्होंने कहा कि लोगों को छाया उपलब्ध कराने और स्टेज पर नेताओं के बैठने के लिए व्यवस्था की गई थी. घटना के वक्त गुजरात के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा तैयारियों का जायजा ले रहे थे.

गुजरात और मध्यप्रदेश में तूफान ने ली कई जान
आंधी और तूफान गुजरात और मध्यप्रदेश में कई लोगों की मौत का कारण बना. मध्यप्रदेश के इंदौर में बिजली गिरने से एक परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि एक शख्स गंभीर रुप से घायल बताया जा रहा है. वहीं, राजस्थान में आंधी-तूफान की वजवह से 9 लोगों की मौत हुई है, जबकि 20 लोग घायल हुए हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्विटर पर जाहिर किया दुख
देश में विभिन्न हिस्सों में बारिश और तूफान से हुई लोगों की मौत पर प्रधानमंत्री मोदी ने दुख जाहिर किया है. प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ट्विटर पर लिखा, 'गुजरात के विभिन्न हिस्सों में बेमौसम बारिश और तूफान के कारण लोगों की जान चली गई. मेरे विचार शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं. अधिकारी स्थिति की बहुत बारीकी से निगरानी कर रहे हैं. प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता दी जा रही है.