close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इंदौरः भय्यू जी महाराज आत्महत्या मामले में सेवादार विनायक, शरद और पलक के खिलाफ चालान पेश

आखिरकार पुलिस ने महाराज को आत्महत्या के उकसाने वाले सेवादारों पकड़ने में सफलता पिछले दिनों हासिल कर ली.

इंदौरः भय्यू जी महाराज आत्महत्या मामले में सेवादार विनायक, शरद और पलक के खिलाफ चालान पेश
तीनों मिलकर भय्यू महाराज पर बना रहे थे तीसरी शादी का दबाव

प्रमोद शर्मा/इंदौरः बहुचर्चित भय्यू महाराज आत्महत्या मामले में पुलिस ने कोर्ट में 366 पेज का च चालान पेश किया है, जिसमें पलक पौराणिक, सेवादार विनायक और शरद पर भैय्यू जी महाराज को ब्लेकमैल  करने, प्रापर्टी हड़पने, पलक से शादी करने का दबाब बनाने, भैय्यू जी महाराज को डिप्रेशन की बीमारी के लिए डॉक्टरों की दवा के बदले रेपर बदलकर हाई डोज देने और इसके बाद नशे की हालत में अश्लील चैट करके षड्यंत्र पूर्वक फंसाने और लगातार ब्लैकमेल करने के मामले में आरोपी बनाया गया है.

भय्यूजी महाराज: बिस्तर छोड़ने से लेकर पिस्तौल का ट्रिगर दबाने तक....पढ़ें हर क्षण की कहानी

मध्य प्रदेश की राजनीति के साथ देश की राजनितिक हलके में भी अपना दबदबा कायम रखने वाला देश की राजनीती में उथल-पुथल मचाने वाले, अन्ना हजारे का अनशन तुड़वाने वाले संत भैय्यू जी महाराज और मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार में राज्य मंत्री का पद ठुकराने वाले संत की आत्महत्या की गुत्थी पुलिस के लिए रहस्मय बनी रही. आखिरकार पुलिस ने महाराज को आत्महत्या के उकसाने वाले सेवादारों पकड़ने में सफलता पिछले दिनों हासिल कर ली.

भय्यू महाराज को दिया था तीसरी शादी करने का अल्टीमेटम, करोड़ों की प्रॉपर्टी पर थी इस लड़की की नजर

ASP प्रशांत चौबे का कहना कि 12 जून 2018 को ब्लैकमेलर गैंग की प्रताड़ना और षड़यंत्र का शिकार होकर भय्यू महाराज ने आत्महत्या कर ली थी, जिसे लेकर पुलिस ने सेवादार विनायक, पलक और शरद के खिलाफ षड़यंत्र, आत्महत्या के लिए उकसाने, वसूली करने, प्रॉपर्टी हड़पने जैसे गंभीर मामलों में 366 पेज का चालान किया है. बता दें तीनों मिलकर भय्यू जी महाराज पर दूसरी शादी करने के बाद पलक से तीसरी शादी करने का दबाव बना रहे थे. जिससे तंग आकर भय्यू महाराज ने आत्महत्या कर ली. 

भय्यू महाराज मौत के मामले में नया मोड़, भक्त बोले- हमारे गुरू की हत्या की गई

एएसपी प्रशांत चौबे का कहना की 125 लोगों से पूछताछ की गई, जिनमें से 28 लोगों के बयानों के आधार पर पलक, विनायक और शरद से पूछताछ तेज की गई. मोबाइल चैटिंग व महाराज और पलक के बीच की चैट निकालने के बाद तीनों ने महाराज की संपत्ति हथियाने के लिए दो साल से महाराज के आसपास रहते हुए एक बड़ा षड्यंत्र रचा. पलक, विनायक व शरद महाराज को डिप्रेशन की बीमारी होने पर डॉक्टरों की दवाओं के बदले हाईडोज दवाएं देने लगे और फिर उनसे अश्लील चैटिंग कर तीनों ने षड्यंत्रपूर्वक महाराज को अपने जाल में फंसा लिया था.