मरवाही उपचुनावः कांग्रेस ने बनाया जयसिंह को कप्तान, तो बीजेपी को है इस नेता से उम्मीद

छत्तीसगढ़ की मरवाही विधानसभा सीट अजीत जोगी के निधन के बाद से खाली हो गई है, जिस वजह से यहां उपचुनाव की जरूरत आई.

मरवाही उपचुनावः कांग्रेस ने बनाया जयसिंह को कप्तान, तो बीजेपी को है इस नेता से उम्मीद
कांग्रेस के जयभान सिंह और दिवंगत अजीत जोगी

दुर्गेश/मरवाहीः चुनाव आयोग द्वारा मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ सहित देश की 56 सीटों पर उपचुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया है. चुनाव आयोग ने 3 और 7 नवंबर को मतदान और 10 नवंबर को नतीजो की घोषणा के निर्देश दे दिए हैं. मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर, तो वहीं छत्तीसगढ़ में भी मरवाही की सीट पर उप चुनाव होना है. अजीत जोगी के निधन से खाली हुई सीट पर कांग्रेस पार्टी की नजर है. इसी को देखते हुए उन्होंने तैयारियां शुरू कर दी है और प्रदेश के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल को इसकी कमान सौंप दी है. 

ये भी पढ़ेंः- MP Byelection Date: उपचुनाव के नतीजे तय करेंगे मध्य प्रदेश का भविष्य?

भूपेश दे चुके हैं 332 करोड़ की सौगात
जनता कांग्रेस के अजीत जोगी के निधन से खाली हुई सीट पर उपचुनाव की तैयारियों को देखते हुए प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने जयसिंह अग्रवाल की कमान सौंपी. नेतृत्व लेते ही उन्होंने सभाएं करना शुरू कर दिया है, उन्होंने कांग्रेस सरकार की योजनाओं का हवाला देते हुए जनता से कांग्रेस को वोट देने की अपील की. प्रदेश के सीएम भूपेश बघेल ने मरवाही में 332 करोड़ के विकास कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण किया है. इसके साथ ही उन्होंने गौरेला पेण्ड्रा मरवाही को अलग जिला बनाते हुए जिले की नगर पंचायत को नगर पालिका बनाने की घोषणा कर दी है.

ये भी पढ़ेंः-MP Byelection: मध्य प्रदेश उपचुनाव तारीख का ऐलान, इन 28 सीटों पर होंगे उपचुनाव

बीजेपी ने दी अमर अग्रवाल को जिम्मेदारी
मरवाही में पिछले चुनावों में दूसरे नंबर पर रही बीजेपी ने इस उपचुनाव के लिए पूर्व कैबिनेट मिनिस्टर अमर अग्रवाल को बागडोर सौंप दी है. अमर अग्रवाल ने कुछ दिनों पहले ही बयान दिया था कि दल बदलने और बदलवाने वालों को आम जनता ठीक नजरों से नहीं देखती. जिसपर कांग्रेस ने कहा कि वे उन्हें सिखाने से पहले अपना चरित्र देख ले. उन्होंने कहा 2018 चुनाव में बीजेपी ने जो किया था वो सबको पता है. 

ये भी पढ़ेंः- मध्य प्रदेश उपचुनाव के लिए कांग्रेस ने खोले पत्ते, प्रेमचंद गुड्डू, सुनील शर्मा समेत 15 उम्मीदवारों की सूची जारी

अमित जोगी है सबसे बड़ी चुनौती
पिछले दो दशकों से मरवाही की इस सीट पर जोगी परिवार का कब्जा रहा है. प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री अजित जोगी इस सीट पर लगातार जीत दर्ज करते आए हैं, तो वहीं उनके बेटे अमित जोगी ने 2013 में इस सीट पर कांग्रेस की ओर से जीत दर्ज की थी. हालांकि, 2016 में एक विवाद के चलते कांग्रेस से अलग होकर उन्होंने अपनी खुद की पार्टी बना ली थी. और 2018 चुनाव में अजीत जोगी ने चुनाव लड़ते हुए बड़ी जीत भी दर्ज की थी. तो वहीं आचार संहिता लगने के बाद भी कांग्रेस और भाजपा ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है. 

ये भी पढ़ेंः- उपचुनाव: कांग्रेस ने 9 और उम्मीदवारों को मैदान में उतारा, BJP से कांग्रेस में गईं पारुल साहू सुरखी से प्रत्याशी

16 अक्टूबर नामांकन की आखरी तारीख
चुनाव आयोग ने बिहार चुनाव की तारीखों के बाद मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ समेत कई राज्यों में विधानसभा की खाली पड़ी सीटों पर उपचुनाव का ऐलान किया. इसी के तहत मरवाही में उम्मीदवारों के नामांकन की आखिरी तारीख 16 अक्टूबर तय की गई है. उम्मीदवारी में बदलाव की तारीख 17 अक्टूबर तो वहीं नाम वापस लेने की आखिरी तारीख 19 अक्टूबर रखी गई है. 3 नवंबर को वोटिंग, तो वहीं 10 नवंबर को बाकी राज्यों के साथ ही मरवाही सीट पर भी नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे. 

WATCH LIVE TV