MP: BJP नेताओं ने अब तक नहीं खाली किए बंगले, कांग्रेस सरकार ने थमाया नोटिस

 सरकार के बंगला आवंटन और आवंटन रद्द करने के अपने नियम हैं. उस नियम के अनुसार कार्यवाही होगी. अगर किसी ने वक्त पर बंगला खाली नहीं किया तो उसके आगे की कार्यवाही की जाएगी.

MP: BJP नेताओं ने अब तक नहीं खाली किए बंगले, कांग्रेस सरकार ने थमाया नोटिस
कांग्रेस ने अपने सभी मंत्रियों को नए बंगले आवंटित कर दिए हैं.(फाइल फोटो)

(संदीप भम्मरकर)/भोपालः मध्य प्रदेश में हुए चुनावी युद्ध में सरकार बदलने के बाद अब बंगला युद्ध शुरू हो गया है. दरअसल, नई सरकार के नए मंत्रियों को रहने के लिए बंगले चाहिए, लेकिन ये बंगले शिवराज सरकार के मंत्रियों और कई दिग्गज नेताओं के कब्जे में अभी भी हैं. ऐसे में गृह विभाग नेताओं को बंगला खाली करने का नोटिस तो थमा चुका है, लेकिन खाली करने में कई जगह आनाकानी की जा रही है. हालात ये हैं कि कमलनाथ सरकार के मंत्री कहीं विधायक विश्राम गृह से काम चला रहे हैं तो कहीं अपने पुराने और छोटे सरकारी आवास में अफसरों के साथ बैठक कर रहे हैं.

शिवराज सिंह की चेतावनी, 'मैं अभी जिंदा हूं, मेरे कार्यकर्ताओं को फंसाया तो छोड़ूंगा नहीं'

वैसे भी सरकार कोई भी हो वीआईपी लोकेशन का बंगला हमेशा ही नेताओं के टारगेट पर रहता है. जिसकी सरकार उस पार्टी के कद्दावर नेता को जरूरत हो या ना हो, लेकिन सहूलियत वाला बंगला जरूर चाहिए. अब कांग्रेस सरकार के मंत्रियों को वीआईपी लोकेशन वाले बंगले की जरूरत है. बता दें ये वीआईपी बंगले चार इमली, 74 बंगले और 45 बंगले श्यामला हिल्स की प्राइम लोकेशन्स में मौजूद हैं. गृह विभाग ने इन बंगलों को मंत्रियों की पसंद के मुताबिक आवंटित कर दिया है. वहीं देखा जाए तो सरकार बदलने के बाद इन नेताओं को नवनिर्वाचित मंत्रियों के लिए बंगले तुरंत खाली कर देना चाहिए, लेकिन अभी तक ऐसा नहीं हो पाया है.

भांजे की फरमाइश पर खुद को रोक नहीं पाए मामा शिवराज, बोले- 'एक दिन जरूर...'

गृह विभाग के अफसरों ने इन बंगलों पर नोटिस भी भेज दिए हैं.हालत ये है कि कुछ नेता वक्त मांग रहे हैं तो कुछ जवाब देना भी ठीक नहीं समझ रहे. अब ऐसे नोटिस की तैयारी है, जिसके बाद भी बंगला नहीं खाली किया गया तो 10 गुना ज्यादा किराया वसूला जाएगा. वहीं प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन का कहना है कि 'बंगले को खाली करने के नोटिस नियमानुसार भेजे जा चुके हैं. जो जिस स्तर का बंगला डिजर्व करता है उसे वैसा बंगला आवंटित किया जा चुका है. सरकार के बंगला आवंटन और आवंटन रद्द करने के अपने नियम हैं. उस नियम के अनुसार कार्यवाही होगी. अगर किसी ने वक्त पर बंगला खाली नहीं किया तो उसके आगे की कार्यवाही की जाएगी.'