close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: बसपा विधायक के पति पर लगा कांग्रेस नेता की हत्या का आरोप, पुलिस ने की छापेमारी

दमोह में बीएसपी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए दिग्गज नेता देवेंद्र चौरसिया की हत्या का आरोप विधायक के पति गोविंद सिंह, देवर समेत सात लोगों पर है.

MP: बसपा विधायक के पति पर लगा कांग्रेस नेता की हत्या का आरोप, पुलिस ने की छापेमारी
दमोह में बीएसपी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए दिग्गज नेता देवेंद्र चौरसिया की हत्या का आरोप विधायक के पति गोविंद सिंह, देवर समेत सात लोगों पर है

भोपाल(अजय शर्मा): अपने अंदाज से सुर्खियां बटोरने वाली दबंग विधायक रामबाई की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है. बीएसपी विधायक रामबाई के घर पर एसपी ने दलबल के साथ जब कार्रवाई को अंजाम दिया तो 100 से ज्यादा पुलिसकर्मी मौके पर मौजूद थे. दरअसल विधायक रामबाई के पति और देवर सहित 7 लोगों के ख़िलाफ़ कांग्रेस नेता की हत्या का मामला दर्ज है. पुलिस को इनकी तलाश है. इसी सिलसिले में पुलिस ने विधायक के घर समेत अन्य जगहों पर छापामार कार्रवाई को अंजाम दिया. 

पुलिस ने सभी 7 आरोपियों पर घोषित किया ईनाम
दमोह में बीएसपी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए दिग्गज नेता देवेंद्र चौरसिया की हत्या का आरोप विधायक के पति गोविंद सिंह, देवर समेत सात लोगों पर है. घटना के बाद से ही ये सब फरार चल रहे है. यही नहीं सभी पर पुलिस ने इनाम भी घोषित किया हुआ है. स्थानीय पुलिस ने जिला पंचायत के अध्यक्ष के ठिकानों पर भी छापे की कार्रवाई को अंजाम दिया है. 

वर्चस्व ने ले ली जान  
देवेंद्र क्षेत्र के कद्दावर नेता माने जाते थे. देवेंद्र और रामबाई के बीच राजनैतिक वर्चस्व की लडाई भी लंबे अर्से से चल रही थी. साल 2004 में देवेंद्र चौरसिया उम्र 56 वर्ष निवासी हटा बीएसपी प्रत्याशी के रूप में हटा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े थे. वहीं वर्ष 2014 में वह दमोह लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े थे. वर्षों तक वह बीएसपी में रहे और 12  मार्च 2019 को कांग्रेस में शामिल हुए थे. सोवेश, देवेंद्र चौरसिया का इकलौता पुत्र है जो घटना के बाद से जिंदगी और मौत से जूझ रहा है.

पति और देवर बेकसूर : रामबाई 
हत्या के आरोप विधायक रामबाई के परिजनों पर पुलिस की कार्रवाई जारी है. पति का अपराधिक रिकॉर्ड भी है.विधायक रामबाई ने आरोपों को बेकार बताया है. उनकी माने तो यह एक राजनीतिक षड्यंत्र का हिस्सा है. क्योंकि उनके परिजनों को लोकसभा का चुनाव का लड़ना है, इसलिए फंसाया जा रहा है. जिस समय की घटना बताई जा रही है उस समय मेरे पति, भतीजा व भाई दमोह सागर नाका स्थित घर पर थे. जिसके सीसीटीवी फुटेज देखे जा सकते हैं. देवर चंदू पास के गांव में थे.