MP: राज्यपाल लालजी टंडन बोले- मुझे अपना निर्देश मनवाने आता है, उचित कार्रवाई करूंगा

कमलनाथ सरकार के फ्लोर टेस्ट नहीं कराने के फैसले से राज्यपाल लालजी टंडन नाराज बताए जा रहे हैं. वह विधानसभा में बजट सत्र की औपचारिक शुरुआत करने 9 मिनट की देरी से पहुंचे और पूरा अभिभाषण पढ़े बिना 11 मिनट में राजभवन लौट गए.

MP: राज्यपाल लालजी टंडन बोले- मुझे अपना निर्देश मनवाने आता है, उचित कार्रवाई करूंगा
मध्य प्रदेश राजभवन में राज्यपाल लालजी टंडन से मिलता भाजपा विधायक दल.

भोपाल: मध्य प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र का आज पहला दिन था. जैसी संभावना थी बिल्कुल वैसा ही हुआ और कमलनाथ सरकार ने फ्लोर टेस्ट कराया. बीते रविवार को जब विधानसभा की कार्यसूची जारी की गई थी उसी समय लग गया था कि कमलनाथ सरकार फ्लोर टेस्ट कराने से बच रही है. विधानसभा की कार्यसूची में राज्यपाल के अभिभाषण के बाद फ्लोर टेस्ट का जिक्र नहीं था. सोमवार सुबह जब विधानसभा की कार्यवाही शुरू हुई तो राज्यपाल लालजी टंडन ने 1 मिनट में बजट अभिभाषण समाप्त कर दिया.

BJP विधायकों का राज्यपाल के सामने परेड
स्पीकर ने सदन की कार्यवाही से 26 मार्च तक स्थगित कर दी. कमलनाथ सरकार के इस फैसले से राज्यपाल लालजी टंडन नाराज बताए जा रहे हैं. वह विधानसभा में बजट सत्र की औपचारिक शुरुआत करने 9 मिनट की देरी से पहुंचे और पूरा अभिभाषण पढ़े बिना 11 मिनट में राजभवन लौट गए. फ्लोर टेस्ट नहीं कराए जाने पर शिवराज सिंह समेत 106 भाजपा विधायक राजभवन पहुंचे और राज्यपाल के सामने परेड की

राज्यपाल ने दिया उचित कार्रवाई का भरोसा
भाजपा विधायक दल से बातचीत करते हुए राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा, 'जब मैंने निर्देश दिए थे तो उसका पालन होना चाहिए था. उन्होंने विधायकों से कहा कि आप निश्चिंत रहिए, जो उचित कार्रवाई होगी, मैं करूंगा. अपने आदेश का पालन करवाना मुझे आता है.' शिवराज सिंह चौहान ने गवर्नर से मुलाकात के बाद कहा कि कमलनाथ रणछोड़दास हैं. वह बहुमत परीक्षण से भाग रहे हैं, लेकिन कोरोना का झूठ भी उनकी सरकार नहीं बचा पाएगा. 

शिवराज सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई याचिका
भारतीय जनता पार्टी की ओर से शिवराज सिंह चौहान ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है. भाजपा ने याचिका में कहा है कि मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार अल्पमत में है. बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट से हस्तक्षेप कर मध्य प्रदेश में फ्लोर टेस्ट करवाने की मांग की है. सुप्रीम कोर्ट इस याचिका पर कल सुनवाई कर सकता है. आपको बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक 22 विधायकों ने कमलनाथ सरकार का साथ छोड़ दिया है. स्पीकर ने इनमें से 6 विधायकों के इस्तीफे मंजूर किए हैं. बाकी विधायकों को फिजीकली प्रजेंट होकर इस्तीफा सौंपने के लिए कहा है.

WATCH LIVE TV