आसमान से सीधे जमीन पर पहुंचे प्याज के भाव, फिर भी लोगों को रुला रहा

देश में बढ़ती प्याज की कीमतों (Onion prices) पर लगाम लगाने के लिए मोदी सरकार विदेशों से आयात कर रही है. सरकार के फैसले से कई जगहों पर प्याज की कीमतों में गिरावट भी आई है.स्‍टॉक लिमिट  तय होने के बाद भोपाल की करोंद मंडी में प्याज के थोक भाव 25 रुपये किलो तक गिर चुके हैं.

आसमान से सीधे जमीन पर पहुंचे प्याज के भाव, फिर भी लोगों को रुला रहा
फाइल फोटो

भोपाल: देश में बढ़ती प्याज की कीमतों (Onion prices) पर लगाम लगाने के लिए मोदी सरकार विदेशों से आयात कर रही है. सरकार के फैसले से कई जगहों पर प्याज की कीमतों में गिरावट भी आई है.स्‍टॉक लिमिट  तय होने के बाद भोपाल की करोंद मंडी में प्याज के थोक भाव 25 रुपये किलो तक गिर चुके हैं. बावजूद इसके लोगों को अब भी प्याज के आंसू रोने पड़ रहे हैं. दोगुने भाव पर लोगों को प्याज बेचा जा रहा है. बाजारों में यह अभी 50 से 60 रुपये किलो में ही बिक रहा है. 

बिट्टन मार्केट, पांच नंबर, अवधपुरी, न्यू मार्केट क्षेत्र, कोलार, होशंगाबाद रोड में प्याज 50 से 60 रुपये किलो ही बेचा जा रहा है. दरअसल, मंडी में बीते दो तीन दिन से प्याज की आवक औसत 350 क्विंटल पर सिमट गई है, इसका फायदा भी बिचौलिये उठा रहे हैं. वे मांग एवं आपूर्ति में बड़ा अंतर बताकर अधिक भाव वसूल रहे हैं. कारोबारियों के अनुसार 20 से 40 रुपये थोक के भाव में प्याज बिक रहा है. जबकि अच्छी क्वालिटी का प्याज 60 रुपये किलो तक फुटकर में बिक रहा है. 

आपको बता दें कि प्याज की कीमतें (Onion prices) अब तेजी से जमीन पर आ रही हैं. देश की सबसे बड़ी प्याज मंडी नासिक की लासलगांव (lasalgaon) में प्याज के थोक भाव अचानक से कम हो गए हैं.जो प्याज 6191 रुपये प्रति क्विंटल के भाव पर बिक रही थी, वो आज यानि मंगलवार 1000 रुपये प्रति क्विंटल सस्ती हो गई है.

ये भी पढ़ें:  `लव जेहाद पर RSS प्रमुख को खुश करने में जुटे हैं शिवराज`, कांग्रेस को BJP ने दिया ये जवाब

मोदी सरकार ने उठाया था य कदम

1.प्याज की कीमत को कंट्रोल में रखने के लिए सरकार ने बीते 23 अक्टूबर को प्याज पर स्टॉक लिमिट 25 टन कर दी थी. 
2. बफर स्टॉक से भी राज्यों को प्याज़ दी गई है. नैफेड ने 1 लाख टन प्याज बाजार में भेजना शुरू कर दिया है, 
3. नैफेड ने शनिवार को 15 हजार टन लाल प्‍याज के आयात का टेंडर निकाला है.
4. सरकार ने प्याज की कीमत को थामने के लिए सितंबर में ही इसके एक्सपोर्ट पर रोक लगा दी थी. 
5. किसान रेल के जरिये प्याज को देश के हर कोने तक पहुंचाया जा रहा है. 6. अभी तक देश में 7000 टन प्याज आ चुका है. इसके अलावा दिवाली तक करीब 25000 टन प्याज और आने की उम्मीद है. 

आखिर क्यों अचानक से बढ़े प्याज के दाम
दरअसल भारी बारिश ने खेतों में प्याज की फसलों को नुकसान पहुंचाया है. जो भी प्याज बाजार में आ रहा है वह मार्च और अप्रैल की उपज का है. सबसे बड़ी बात यह है कि थोक मंडियों में प्याज की आमद भी घटी है. पुणे के थोक बाजार में प्याज की आमद 500 ट्रक से घटकर 150 ट्रक प्रति दिन हो गई है. यानि सामान्य दिनों में जहां पर हर रोज जहां पर 500 ट्रक पहुंचते थे. अब केवल तीन चौथाई ही आमद हो रही है. 

WATCH LIVE TV: