शिवराज मंत्रिमंडल को लेकर सुगबुगाहट तेज, 6-10 मंत्री ले सकते हैं शपथ, सिंधिया समर्थक रेस में आगे

सूत्रों के हवाले से खबर है कि शिवराज की नई टीम में कई पुराने चेहरे दावेदार हैं, वहीं कमलनाथ सरकार गिराने में अहम भूमिका निभाने वाले सिंधिया खेमे के सीनियर नेताओं को भी मंत्रिमंडल में जगह मिलने की खबरें हैं.

शिवराज मंत्रिमंडल को लेकर सुगबुगाहट तेज, 6-10 मंत्री ले सकते हैं शपथ, सिंधिया समर्थक रेस में आगे
फोटो साभार: @BJP4MP

भोपाल: कोरोना संकट में अधिकारियों के सहारे चल रहे मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज चौहान जल्द मंत्रिमंडल का गठन कर सकते हैं. ऐसा बताया जा रहा है कि 20 अप्रैल तक अगर कोरोना के हालात ठीक रहे तो मंत्रिमंडल का गठन हो सकता है. इससे पहले लॉकडाउन के पहले चरण की समाप्ति के बाद ही मंत्रिमंडल के गठन की सुगबुगाहट थी लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए केंद्र सरकार ने लॉकडाउन की अवधि को 3 मई तक बढ़ा दिया है. इसलिए ये कार्यक्रम भी टल गया.

6 से 10 मंत्री ले सकते हैं शपथ
सूत्रों के हवाले से खबर है कि मुश्किल घड़ी में सूबे के मुखिया शिवराज चौहान 6 से 10 वरिष्ठ और अनुभवी नेताओं को मंत्री बनाएंगे. शिवराज की नई टीम में कई पुराने चेहरे दावेदार हैं, वहीं कमलनाथ सरकार गिराने में अहम भूमिका निभाने वाले सिंधिया खेमे के सीनियर नेताओं को भी शिवराज मंत्रिमंडल में जगह मिलने की खबरें हैं. बता दें कि कोरोना संकट के ऐन पहले मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार के तख्तापलट के बाद से केवल शिवराज चौहान बतौर मुख्यमंत्री काम कर रहे हैं. ऐसे में विपक्ष में बैठी कांग्रेस सरकार पर कैबिनेट गठन को लेकर कई बार घेराबंदी कर चुकी है.

ये भी पढ़ें: MP में 25 अप्रैल से होगी वनोपज की खरीद, महुआ का मूल्य 35 रु./ किलो, तेंदूपत्ता 2500 रु. प्रति बोरा

सिंधिया समर्थक नेताओं को भी मिल सकती है जगह
मध्य प्रदेश के राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि गोपाल भार्गव, नरोत्तम मिश्रा, भूपेंद्र सिंह, रामपाल सिंह, विजय शाह, गौरीशंकर बिसेन और मीना सिंह पहले चरण में मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं. ऐसी भी खबर है कि कमलनाथ सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहे सिंधिया खेमे के तुलसी सिलावट को शिवराज सरकार में भी अहम भूमिका मिल सकती है. कुछ और नेताओं के भी नाम सामने आ रहे हैं. इस संदर्भ में शिवराज चौहान की पार्टी के दिग्गजों से चर्चा भी हो चुकी है. वहीं, अब पार्टी आलाकमान से इसे लेकर बातचीत होगी, जिसके बाद हरी झंडी मिलने पर तुरंत मंत्रियों का शपथ ग्रहण हो सकता है.

बता दें कि कोरोना के कारण पिछले एक महीने से ठप पढ़ी अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए 20 अप्रैल के बाद कुछ शर्तों के साथ कुछ सेक्टर्स में व्यावसायिक गतिविधियों को शुरू करने पर विचार चल रहा है.

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के इंदौर में क्वॉरंटीन सेंटर से भागे 8 में से 6 हैं कोरोना पॉजिटिव, पुलिस ने की पुष्टि