चावल, गेहूं के बाद अब यूरिया में घालमेल, सोनू सूद ने युवक को दिया 'पैर'

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सुबह 11 बजे मंत्रालय पहुचेंगे और 11:30 बजे  गौण खनिज नियम तथा जिला खनिज प्रतिष्ठान नियम में प्रस्तावित संशोधन का प्रजेंटेशन देखेंगे. वहीं, छत्तीसगढ़ में शहीद का परिवार नौकरी की मांग कर रहा है.

चावल, गेहूं के बाद अब यूरिया में घालमेल, सोनू सूद ने युवक को दिया 'पैर'

1. जरूरतमंदों को नहीं मिल रहा खाद, भिंड में 20 किसानों में बांट दी यूरिया की 9000 बोरियां

भिंड: मध्य प्रदेश के भिंड में एक तरफ जहां किसानों को एक बोरी यूरिया खाद नहीं मिल रही है, वहीं दूसरी तरफ 20 किसानों को 9 हजार बोरी यूरिया बांटने का मामले सामने आया है. फिलहाल मामले में प्रमुख सचिव के पत्र के बाद कलेक्टर वीरेंद्र रावत ने जिले के सभी एसडीएम और उपसंचालक जांच के आदेश देते हुए जल्द से जल्द रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है.

2. साध्वी प्रज्ञा ने बिना नाम लिए दिग्विजय को बताया अधर्मी, बोलीं-ऐसे लोगों की राजनीति खत्म कर दो

भोपाल: बीजेपी की सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अक्सर दिग्विजय सिंह को अपने निशाने पर लेती हैं. रविवार को भी उन्होंने इशारों-इशारों में दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा. उन्होंने कहा ''भोपाल में हमें क्यों लाया गया है, यह आपको याद होगा. ऐसा कहा जाता है जब सियार की मौत आती है तो शहर की तरफ भागता है. यहां अधर्मियों ने आकर टिकने का प्रयास किया था.

3. सीएम शिवराज कई अहम बैठक लेंगे, शाम को अनूपपुर जाएंगे
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सुबह 11 बजे मंत्रालय पहुचेंगे और 11:30 बजे  गौण खनिज नियम तथा जिला खनिज प्रतिष्ठान नियम में प्रस्तावित संशोधन का प्रजेंटेशन देखेंगे. मुख्यमंत्री दोपहर 12:15 बजे  एस आर एल एम के संबंध मे ACS ग्रामीण विकास, पीएस वित्त, एमआर वेलवाल के साथ बैठक करेंगे..
इस दौरान खनिज मंत्री, प्रमुख सचिव वित्त और सचिव खनिज विभाग मौजूद रहेंगे. आज सीएम शिवराज का अनूपपुर का दौरा करेंगे.

4. ट्विटर पर मदद मांगी, सोनू सूद ने युवक दो दे दी झोली भर खुशी
देवास: फिल्म अभिनेता सोनू सूद की मदद से देवास के विजय नगर निवासी दीपेश गिरी को भोपाल में कृत्रिम पैर लगा दिया गया। हादसे में अपना एक पैर गंवाने वाले दीपेश खुश हैं और उनका कहना है कि अब मैं पहले की तरह दोनों से चल सकता हूं.

5. शहीद का परिवार मांगे नौकरी, प्रशासन नहीं दे रहा ध्यान
कांकेर: शहीद का परिवार नौकरी मांग रहा है. भारत चीन झड़प में कांकेर का जवान शहीद हो गया था. दो महीने बीतने के बावजूद उसके सदस्य को नौकरी नहीं मिली है. जिला प्रशासन से नौकरी के लिए लगातार मांग की जा रही है.