अनोखा मामला: पत्नी की जान बचाने एंबुलेंस को ही कर लिया हाईजैक, आग लगाने की धमकी दी, जानें फिर क्या हुआ?

एक युवक ने अपनी गर्भवती पत्नी की हालत बिगड़ते देख एंबुलेंस को बुलाया और उसने एंबुलेंस को ही अपने कब्जे में करके उसे जाने से रोक दिया.

अनोखा मामला: पत्नी की जान बचाने एंबुलेंस को ही कर लिया हाईजैक, आग लगाने की धमकी दी, जानें फिर क्या हुआ?
सुनील कुशवाह

विदिशा: मध्य प्रदेश के विदिशा जिले से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. कोरोना काल में लोग अपनों की जान बचाने के लिए किस हद तक गुजर सकते है, इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते है कि एक युवक ने अपनी गर्भवती पत्नी की हालत बिगड़ते देख एंबुलेंस को बुलाया और उसने एंबुलेंस को ही अपने कब्जे में करके उसे जाने से रोक दिया.

 कोरोना टेस्ट कराने जा रहे बेटे को किया गिरफ्तार, मां करती रही मिन्नतें, पुलिस गाड़ी में ठूंसकर ले गई थाने

आग लगाने की धमकी दे डाली
दरअसल गर्भवती महिला आरती कुशवाह पत्नी सुनील कुशवाह ने पहले पुतली घाट पर एंबुलेंस बुलाई और फिर तोड़फोड़ और आग लगाने की धमकी देकर उसे 2 घंटे तक हाईजैक कर लिया. बात यहां आकर खत्म नहीं हुई बल्कि परिजनों ने स्वास्थ्य कर्मचारियों से एंबुलेंस में ही महिला को ऑक्सीजन भी लगवाई और एंबुलेंस के ड्राइवर दीपक को हॉस्पिटल नहीं जाने दिया.

एंबुलेंस दूसरे दिन पहुंची
जब पति सुनील से पूछा कि उसने एंबुलेंस को हाईजैक क्यों किया तो उसका कहना हैं कि मेरी पत्नी आरती 10 दिन पहले कोरोना पॉजिटिव हुई थी. फिर अचानक से उसका ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा था, वह 8 माह की गर्भवती है. मैंने शुक्रवार को 11 बजे एंबुलेंस को कॉल करके बुलाया और वह दूसरे दिन सुबह 9.30 बजे पहुंची.

ग्यारसपुर ले जाने कहा
इस बीच मैंने ग्यारसपुर में ऑक्सीजन की व्यवस्था भी कर ली. जब दूसरे दिन एंबुलेंस वहां पहुंची तो मैंने उसे ग्यारसपुर चलने को कहा लेकिन वह नहीं गए. इसलिए मु्झे इस तरह करना पड़ा

ड्राइवर ने अधिकारियों को दी मामले की जानकारी
वहीं पूरे घटना की जानकारी जब एंबुलेंस के कर्मचारिओं ने अधिकारियों को दी तो डायल 100 के पुलिस वाले मौके पर पहुंचे और सुनील को समझाया कि अगर ऐसे ही सभी लोग एंबुलेंस को बंधक बनाते रहे तो दूसरे पेशेंट को इलाज कैसे मिलेगा. ऐसा नहीं करने और एंबुलेंस को हाईजैक करने के मामले में एफआईआर दर्ज कराई जाएगी.

कोरोना कहर के बीच भोपाल समेत इन 5 जिलों में बढ़ाई गई कोरोना कर्फ्यू की डेट, आदेश जारी

मरीज को भर्ती करा दिया है
वहीं पूरे घटनाक्रम पर डा.केएस अहिरवार, सीएमएचओ विदिशा का कहना हैं कि आरती को ऑक्सीजन की जरूरत थी. इसी कारण उसने 108 एंबुलेंस को रोक लिया था. मौके पर पुलिस को पहुंचाकर महिला के पति को समझाया. महिला को भर्ती कर लिया गया है और किसी पर कोई केस दर्ज नहीं किया गया है.

WATCH LIVE TV