close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'हाफिज सईद जैसे आतंकवादियों को साहब कहने वाले भोपाल में हारे': भाजपा

 "भोपाल लोकसभा क्षेत्र में जीत तो भाजपा की हुई है, लेकिन इसमें हार उन लोगों की हुई है, जो हाफिज सईद जैसे आतंकियों को साहब कहते हैं, जो लोग ओसामा बिन लादेन जैसे विश्वस्तरीय आतंकवादी को 'जी' कहकर सम्मान देते हैं."

'हाफिज सईद जैसे आतंकवादियों को साहब कहने वाले भोपाल में हारे': भाजपा
भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा (फाइल फोटो)
Play

भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से पराजित कांग्रेस उम्मीदवार व पूर्व मुख्यमंत्री दिग्जिवय सिंह द्वारा लोकसभा चुनाव में गांधी के हत्यारे की विचारधारा की जीत होने संबंधी बयान पर भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष और विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि यह हार हाफिज सईद जैसे आतंकियों को साहब कहने वालों की है. शर्मा ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा, "भोपाल लोकसभा क्षेत्र में जीत तो भाजपा की हुई है, लेकिन इसमें हार उन लोगों की हुई है, जो हाफिज सईद जैसे आतंकियों को साहब कहते हैं, जो लोग ओसामा बिन लादेन जैसे विश्वस्तरीय आतंकवादी को 'जी' कहकर सम्मान देते हैं."

कांग्रेस नेता और भोपाल से पराजित उम्मीदवार दिग्विजय सिह द्वारा भाजपा की जीत को गांधी के हत्यारे की विचारधारा वालों की जीत बताने पर शर्मा ने कहा, "ऐसे लोग जो हमेशा हिसा और अशांति को हवा देने का काम करते रहे हैं, खुद को शांतिदूत बता रहे हैं, जो हास्यास्पद है." शर्मा ने कहा, "भोपाल का चुनाव वास्तव में ऐसे दलों और नेताओं की हार है, जो राष्ट्र के विरोधियों, देश के टुकड़े-टुकड़े करने के नारे लगाने वालों, आतंकवादियों और हिसा फैलाने वालों को सम्मान देते रहे हैं. महात्मा गांधी और अहिंसा के उनके सिद्धांतों का अनुयायी होने का दावा करने वाले ये फर्जी लोग हमेशा हिसा को हवा देते रहे हैं.''

कांग्रेस के लिए 5 क्विंटल मिर्ची से किया था यज्ञ, साध्वी के जीतते ही गायब हुआ बाबा

शर्मा ने कहा, "1984 के सिख दंगों से लेकर मुजफ्फरपुर, मेरठ और पता नहीं कितने दंगों में इन्होंने हजारों निर्दोष लोगों का खून बहाया है, पता नहीं कितने मासूमों की बलि ली है. देश के सैकड़ों निरपराध नागरिकों का खून बहाने वाले, जाकिर नाईक जैसे लोगों की तरफदारी करने वाले इन नेताओं को किसी और पर टिप्पणी करने का अधिकार ही नहीं है." (इनपुटः आईएएनएस)