शीना बोरा मर्डर की जांच कर रहे राकेश मारिया बनाए गए पुलिस महानिदेशक, जावेद बने मुंबई के नए पुलिस कमिश्‍नर

शीना बोरा हत्या मामले की जांच के बीच में अचानक लिए गए एक फैसले के तहत मुंबई पुलिस आयुक्त राकेश मारिया को मंगलवार को पदोन्नति देते हुए पुलिस महानिदेशक (होमगार्ड) बना दिया गया जबकि महानिदेशक रैंक के अधिकारी अहमद जावेद को शहर का पुलिस प्रमुख बना दिया गया। उधर, मुंबई के नए पुलिस आयुक्त अहमद जावेद ने कहा कि शीना बोरा हत्या मामले में पेशेवर तरीके से निगरानी होगी। गौर हो कि राकेश मारिया खुद हाई प्रोफाइल शीना बोरा मर्डर केस पर नजर रखे हुए थे।

शीना बोरा मर्डर की जांच कर रहे राकेश मारिया बनाए गए पुलिस महानिदेशक, जावेद बने मुंबई के नए पुलिस कमिश्‍नर

मुंबई : शीना बोरा हत्या मामले की जांच के बीच में अचानक लिए गए एक फैसले के तहत मुंबई पुलिस आयुक्त राकेश मारिया को मंगलवार को पदोन्नति देते हुए पुलिस महानिदेशक (होमगार्ड) बना दिया गया जबकि महानिदेशक रैंक के अधिकारी अहमद जावेद को शहर का पुलिस प्रमुख बना दिया गया। उधर, मुंबई के नए पुलिस आयुक्त अहमद जावेद ने कहा कि शीना बोरा हत्या मामले में पेशेवर तरीके से निगरानी होगी। गौर हो कि राकेश मारिया खुद हाई प्रोफाइल शीना बोरा मर्डर केस पर नजर रखे हुए थे।

गृह विभाग ने कहा कि ये बदलाव गणपति महोत्सव से पहले कानून और व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए किए गए हैं। इसके साथ विभाग ने इस बदलाव का संबंध हाई प्रोफाइल हत्या मामले की चल रही जांच के साथ होने के कयासों को खारिज कर दिया। अतिरिक्त प्रमुख सचिव (गृह) केपी बक्शी ने कहा कि मारिया को महानिदेशक पद पर प्रोन्नत किया गया है और अहमद जावेद की जगह उन्हें होम गार्डस के महानिदेशक के रूप में तैनात किया गया है। जावेद (जो डीजी-होमगार्डस थे) मुंबई के नए पुलिस आयुक्त हैं। उन्होंने कहा कि मुंबई पुलिस आयुक्त के पद का उन्नयन करते हुए इसे ‘महानिदेशक’ स्तर का पद बना दिया गया है। बता दें कि मारिया को 30 सितंबर तक मुंबई पुलिस कमिश्‍नर पद पर बने रहना था।  

बीते दिनों राकेश मारिया ने कहा था कि वह शीना को दूसरी आरुषि नहीं बनने देंगे। वहीं, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बीते दिनों एक बयान में कहा था कि पुलिस एक ही केस में ज्यादा ध्यान दे रही है, जबकि इस तरह के अन्य केस भी हैं जिन्हें सुलझाया जाना चाहिए। सूत्रों के अनुसार, राकेश मारिया को इस बात की उम्मीद नहीं थी कि उन्‍हें अचानक कमिश्‍नर पद से हटा दिया जाएगा। पहले इस बात की संभावना जताई जा रही थी कि शीना केस की गुत्‍थी पूरी तरह सुलझने तक उनका प्रमोशन आगे बढ़ाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि वर्ष 1981 के बैच के आईपीएस अधिकारी मारिया का स्थानांतरण तत्काल प्रभाव से कर दिया गया और 1980 के बैच के आईपीएस अधिकारी जावेद आज ही नए पुलिस आयुक्त के रूप में पदभार संभालेंगे। उन्होंने कहा कि मारिया के स्थानांतरण में कोई जल्दबाजी नहीं थी। यदि उन्हें 30 सितंबर को, यानी महाराष्ट्र के महत्वपूर्ण समारोह गणपति महोत्सव के बीच में स्थानांतरित किया जाता तो यह उचित नहीं होता। इसलिए हमने मारिया को पहले ही प्रोन्नति देने का फैसला किया। जब उनसे शीना बोरा हत्या मामले की जारी जांच के बारे में पूछा गया तो बक्शी ने कहा कि सिर्फ यह मामला नहीं बल्कि सभी जांचें महत्वपूर्ण हैं और पुलिस आयुक्त का काम सिर्फ जांच का निरीक्षण करना है।

बक्शी ने कहा कि जांच निचले स्तर के पुलिस अधिकारियों द्वारा की जाती हैं और इनका निरीक्षण पुलिस आयुक्त करते हैं। नए पुलिस आयुक्त समर्थ हैं। इसके अलावा जावेद को मुंबई में स्थिति संभालने के लिए पर्याप्त समय मिलना चाहिए। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जापान के दौरे पर गए हुए हैं।

अब सवाल उठ रहे हैं कि क्‍या शीना बोरा केस की वजह से मारिया को कमिश्‍नर पद से हटाया गया। सूत्रों के अनुसार, शीना केस में जरूरत से ज्‍यादा रुचि दिखाने की वजह से मारिया पर गाज गिरी है। सूत्रों के अनुसार, शीना केस में मारिया के बयानों से महाराष्‍ट्र सरकार नाराज थी।