मुंबई के सबसे अमीर गणपति का हुआ 264 करोड़ का बीमा, 70 किलो सोने बने हैं बप्पा

महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी के मौके पर खूब रौनक देखने को मिलती है. प्रदेश के मुंबई शहर में गणेश चतुर्थी के उत्सव पर सजने वाले बप्पा के पंडाल पूरे देश में मशहूर हैं. 

मुंबई के सबसे अमीर गणपति का हुआ 264 करोड़ का बीमा, 70 किलो सोने बने हैं बप्पा
जीएसबी पंडाल का 264.75 करोड़ का बीमा

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी के मौके पर खूब रौनक देखने को मिलती है. प्रदेश के मुंबई शहर में गणेश चतुर्थी के उत्सव पर सजने वाले बप्पा के पंडाल पूरे देश में मशहूर हैं. मुंबई के सबसे अमीर जीएसबी मंडल पंडाल के गणपति देश के सबसे अमीर गणेशा हैं. इस बार जीएसबी मंडल ने करीब 264 करोड़ का बीमा लिया है. इसके अलावा मुंबई के मशहूर गणेश मंडलों ने इस बार करोड़ों रुपये का बीमा करवाया है. ये बीमा गणेश मूर्ति पर चढ़ाए जाने वाले करोड़ों के जेवरात और भक्तों की सुरक्षा के लिए किया गया है. लालबाग के राजा के मंडल ने भी करोड़ों का बीमा करवाया है. 

GSB मुंबई के सबसे अमीर मंडलों में से एक 
मुंबई के सबसे अमीर मंडलों में से एक किंग सर्कल के जीएसबी मंडल ने इस साल 264 करोड़ 75 लाख रुपये का भारी भरकम बीमा करवाया है. इसमें 20 करोड़ रुपये बप्पा के आभूषण, 20 करोड़ रुपये पंडाल और बाकी की रकम का बीमा वॉलेंटियर्स और भक्तों के लिए कराया गया है. किसी भी तरह के हादसे और दुर्घटना को देखते हुए ये बीमा कराया गया है. जीएसबी मंडल में विराजमान गणपति को 70 किलो सोने और 350 किलो चांदी के गहनों से सजाया गया है. बीमा कंपनी से करार के मुताबिक प्रीमियम की रकम को मंडल ने सार्वजनिक नहीं किया है. 

बप्पा की इस मूर्ति को देख ललचा जाएगा आपका मन, यकीन न हो तो देख लो...

लालबाग के राजा का भी हुआ करोड़ों को बीमा 
जीएसबी के अलावा मुंबई के मशहूर लालबाग के राजा के मंडल ने इस साल बप्पा का 25 करोड़ रुपये बीमा करवाया है। पिछले साल लालबाग के राजा का 51 करोड़ रुपये का बीमा कराया गया था. मुंबई के गणेश गल्ली पंडाल ने इस साल गणपति बप्पा के लिए साढ़े 6 करोड़ का बीमा कराया है. बॉलीवुड सेलिब्रेटीज के पसंदीदा अंधेरी के राजा का भी मंडल ने इस बार साढ़े पांच करोड़ का बीमा लिया है. गणेशोत्सव महाराष्ट्र का सबसे बड़ा त्यौहार होता है और इस दौरान मुंबई में काफी रौनक होती है. मशहूर मंडलों में बप्पा के दर्शन के लिए लोग बड़ी संख्या में पहुंचते हैं, ऐसे में किसी हादसे या अनहोनी की आशंका को देखते हुए मंडल पहले से ही बीमा करा लेते हैं ताकि किसी भी नुकसान से बचा जा सके.