पीएम मोदी का बड़ा बयान, हो सकता है करतापुर कॉरिडोर दोनों देशों के जन जन को जोड़ दे

 26 नवंबर को गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक क्षेत्र में सीएम अमरिंदर सिंह और राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद करतारपुर कॉरिडोर परियोजना की आधारशिला रखेंगे.

पीएम मोदी का बड़ा बयान, हो सकता है करतापुर कॉरिडोर दोनों देशों के जन जन को जोड़ दे
2019 में होने वाले गुरु नानक के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पाकिस्तान ने यह कॉरिडोर खोलने का ऐलान किया है. (फोटो साभार : ANI)

नई दिल्ली: सिखों के आदिगुरु गुरु नानक देव के 449वें प्रकाश पर्व पर पीएम मोदी शिरोमणि अकाली दल (SAD) के प्रमुख सुखबीर बादल के घर पहुंचे. यहां उन्होंने कहा कि किसने सोचा था कि बर्लिन की दीवार गिर सकती है. शायद गुरु नानक देव के आशीर्वाद से करतारपुर कॉरिडोर सिर्फ कॉरिडोर नहीं, बल्कि लोगों को जोड़ने का बहुत बड़ा कारण बन सकता है.

पीएम मोदी ने कहा कि 1947 में जो हुआ सो हुआ. कुछ ऐसी बातें होती हैं जो सरकार और सेनाओं से जुड़ी होती हैं. ये रास्ते कब निकलेंगे यह समय बताएगा. लेकिन, जन-जन का जुड़ाव बहुत बड़ी ताकत होती है. जब बर्लिन की दीवार गिर सकती है तो करतारपुर कॉरिडोर भी जन-जन को जोड़ने का बहुत बड़ा कारण बन सकता है.

 

 

इस बीच, भारत की तरफ से करतारपुर कॉरिडोर के लिए आधारशिला रखने के ऐलान के बाद पाकिस्तान ने भी करतारपुर बॉर्डर खोलने का ऐलान किया है. 2019 में होने वाले गुरु नानक के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पाकिस्तान ने यह कॉरिडोर खोलने का ऐलान किया है. इसके लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान 28 नवंबर 2018 को शिलान्यास कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं.

इससे पहले पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को कहा कि वह और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 नवंबर को गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक क्षेत्र में करतारपुर कॉरिडोर परियोजना की आधारशिला रखेंगे. अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर कहा, "यह साझा करते हुए खुशी हो रही है कि मैं 26 नवंबर को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ गुरदासपुर के डेरा बाबा नानक में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर करतारपुर कॉरिडोर की आधारशिला के वक्त मौजूद रहूंगा. यह वास्तव में गुरू नानक देव के सभी भक्तों के लिए एक बड़ा क्षण होगा." 

राष्ट्रपति कोविंद इस दिन रखेंगे करतारपुर कॉरिडोर की आधारशिला, जानिए क्यों है खास

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि इस गलियारे का विकास होने से भारत से लाखों श्रद्धालुओं को पाकिस्तान में रावी नदी के किनारे स्थित गुरूद्वारा दरबार साहिब की यात्रा करने में सुविधा होगी जहां गुरू नानक देव ने 18 वर्ष बिताए थे. उन्होंने कहा कि करतारपुर की यात्रा करने की पाकिस्तान सरकार द्वारा इजाजत देने के निर्णय का मैं स्वागत करता हूं. इसका दोनों देशों के संबंधों को सुधारने में दीर्घकालिक प्रभाव हो सकता है.