Breaking News
  • IPL: पंजाब ने टॉस जीता, गेंदबाजी का फैसला
  • IPL-13 के दूसरे मैच में किंग्‍स इलेवन पंजाब और दिल्‍ली कैपिटल्‍स के बीच मुकाबला

PM मोदी की मां ने इस तरह देखा राम मंदिर भूमि पूजन, हाथ जोड़कर बैठी रहीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की करीब सौ वर्षीय मां हीरा बेन भी अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन की साक्षी बनीं. उन्होंने पूरे पूजन कार्यक्रम को टीवी पर लाइव देखा. 

PM मोदी की मां ने इस तरह देखा राम मंदिर भूमि पूजन, हाथ जोड़कर बैठी रहीं
फोटो- IANS

नई दिल्ली: आज का दिन इतिहास के पन्नों पर स्वर्ण अक्षरों में दर्ज हो गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने आज 'श्री राम जन्मभूमि मंदिर' का शिलान्यास किया. देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर के लोगों को इस शुभ घड़ी का इंतजार था. कोरोना के चलते ज्यादा लोगों को इस समारोह में शामिल होने की अनुमति नहीं थी. ऐसे में लोगों ने अपने-अपने घरों में बैठकर टीवी के माध्यम से इस ऐतिहासिक क्षण को अपनी स्मृतियों में कैद कर लिया. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की करीब सौ वर्षीय मां हीरा बेन भी अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन की साक्षी बनीं. उन्होंने पूरे पूजन कार्यक्रम को टीवी पर लाइव देखा. सामने आईं तस्वीरों में प्रधानमंत्री मोदी जब मंदिर निर्माण के लिए पूजन कर रहे थे और साष्टांग दंडवत हुए थे, तब उनकी मां हीरा बेन भी टीवी के सामने प्रसन्न मुद्रा में हाथ जोड़े हुए नजर आ रहीं हैं.

राम मंदिर का शिलान्यास करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राम मंदिर राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक है तथा इससे समूचे अयोध्या क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में सुधार होगा. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार स्वतंत्रता दिवस लाखों बलिदानों और स्वतंत्रता की भावना का प्रतीक है, उसी तरह राम मंदिर का निर्माण कई पीढ़ियों के अखंड तप, त्याग और संकल्प का प्रतीक है.

ये भी पढ़ें- भूमि पूजन पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा, 'संकल्प हुआ पूरा, सदियों की आस थी राम मंदिर'

पढ़ें पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें: 

1. 'बरसों से टाट और टेंट के नीचे रह रहे 'हमारे रामलला' के लिए अब एक भव्य मंदिर का निर्माण होगा. 'टूटना और फिर उठ खड़ा होना, सदियों से चल रहे इस व्यतिक्रम से राम जन्मभूमि आज मुक्त हो गई है.'   

2. '15 अगस्त का दिन लाखों बलिदानों का प्रतीक है, स्वतंत्रता की भावना का प्रतीक है. ठीक उसी तरह राम मंदिर के लिए कई सदियों तक कई पीढ़ियों ने लगातार प्रयास किया और आज का यह दिन उसी तप, त्याग और संकल्प का प्रतीक है.'  

3. 'राम मंदिर के लिए चले आंदोलन में अर्पण भी था, तर्पण भी था, संघर्ष भी था, संकल्प भी था. जिनके त्याग, बलिदान और संघर्ष से आज ये स्वप्न साकार हो रहा है, जिनकी तपस्या राम मंदिर में नींव की तरह जुड़ी हुई है, मैं उन सबको आज 130 करोड़ देशवासियों की तरफ से नमन करता हूं.'  

4. 'राम का मंदिर भारतीय संस्कृति का आधुनिक प्रतीक बनेगा, हमारी शाश्वत आस्था का प्रतीक बनेगा, राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा. उन्होंने कहा, "ये मंदिर करोड़ों-करोड़ों लोगों की सामूहिक शक्ति का भी प्रतीक बनेगा.'  

5. 'भगवान राम की अद्भुत शक्ति देखिए. इमारतें नष्ट कर दी गईं, अस्तित्व मिटाने का प्रयास भी बहुत हुआ, लेकिन राम आज भी हमारे मन में बसे हैं, हमारी संस्कृति का आधार हैं. श्रीराम भारत की मर्यादा हैं, श्रीराम मर्यादा पुरुषोत्तम हैं.' 

6. 'राम हमारे मन में गढ़े हुए हैं, हमारे भीतर घुल-मिल गए हैं. कोई काम करना हो, तो प्रेरणा के लिए हम भगवान राम की ओर ही देखते हैं.'  

7. 'आज का ये दिन करोड़ों रामभक्तों के संकल्प की सत्यता का प्रमाण है. आज का ये दिन सत्य, अहिंसा, आस्था और बलिदान को न्यायप्रिय भारत की एक अनुपम भेंट है.'  

8. 'आज भूमि पूजन का कार्यक्रम अनेक मर्यादाओं के बीच हो रहा है. श्रीराम के काम में मर्यादा का जैसे उदाहरण प्रस्तुत किया जाना चाहिए, वैसा ही उदाहरण देश ने पेश किया है. ये उदाहरण तब भी पेश किया गया था, जब उच्चतम न्यायालय ने अपना फैसला सुनाया था.'  

LIVE TV-

9. 'देशभर के धामों और मंदिरों से लाई गई मिट्टी और नदियों का जल, वहां के लोगों, वहां की संस्कृति और वहां की भावनाएं, आज यहां की शक्ति बन गई हैं. वाकई ये न भूतो न भविष्यति है.' 

10. 'श्रीरामचंद्र को तेज में सूर्य के समान, क्षमा में पृथ्वी के तुल्य, बुद्धि में बृहस्पति के सदृश्य और यश में इंद्र के समान माना गया है. श्रीराम का चरित्र सबसे अधिक जिस केंद्र बिंदु पर घूमता है, वो है सत्य पर अडिग रहना. इसलिए ही श्रीराम संपूर्ण हैं. 

ये भी देखें-