close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शरद पवार को लगा सियासी झटका, बीजेपी में शामिल हुए एनसीपी के 3 विधायक

कांग्रेस के एक विधायक ने भी पार्टी का हाथ छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया है. कांग्रेस से बीजेपी में आने वो विधायक कालिदास कोलंबकर हैं. 

शरद पवार को लगा सियासी झटका, बीजेपी में शामिल हुए एनसीपी के 3 विधायक
महाराष्‍ट्र के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन ने कहा है कि एनसीपी और कांग्रेस के 50 विधायक बीजेपी में आने के लिए कतार में खड़े हैं. (फाइल फोटो)

मुंबई: महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Elections 2019) से पहले एनसीपी प्रमुख शरद पवार को बड़ा सियासी झटका लगा है. उनकी पार्टी के तीन विधायकों ने आज मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडनवीस की मौजूदगी में बीजेपी में सदस्‍यता ग्रहण कर ली है. बीजेपी की सदस्‍यता लेने वाले विधायकों में सतारा से शिवेंद्र भोसले, ऐरोली नवी मुंबई से संदीप नाइक और अहमद नगर से वैभव पिचड़ शाामिल हैं. वहीं, कांग्रेस के एक विधायक ने भी पार्टी का हाथ छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया है. कांग्रेस से बीजेपी में आने वो विधायक कालिदास कोलंबकर हैं. 

उल्‍लेखनीय है कि मंगलवार को इन सभी विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को अपना इस्तीफा भेज दिया था.  जिसके बाद, बुधवार को मुंबई के सीसीआई क्लब में आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री फडणवीस के अगुवाई में सभी चार विधायक को बीजेपी में शामिल किया. यहां आपको बता दें कि एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad pawar) ने दो दिन पहले ही कहा था कि बीजेपी उनकी पार्टी को तोड़ रही है, जो लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है. हालांकि शरद पवार (Sharad pawar) ने ये भी कहा था कि उनकी पार्टी से जो कोई नेता अलग होता है, वह दोबारा नहीं जीतता है. 

इसके जवाब में सीएम फडणवीस ने कहा था कि शरद पवार (Sharad pawar) को अपना कुनबा समेटना चाहिए, ना कि दूसरों पर आरोप लगाना चाहिए. उन्होंने कहा था कि बीजेपी नीतियों से प्रभावित होकर एनसीपी और कांग्रेस के लोग बीजेपी में आ रहे हैं. हालांकि बीजेपी तय करेगी कि किस नेता को लेना है और किसे नहीं लेना है. वहीं, महाराष्ट्र के जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन ने मंगलवार को कहा था कि कई लोग भाजपा में शामिल होने के लिए उत्साहित हैं. कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के 50 से अधिक विधायक भाजपा में शामिल होना चाहते हैं. उन्‍होंने कहा कि हमारी भी कुछ सीमाएं हैं, लिहाजा, हम सभी को स्वीकार नहीं कर सकते हैं.