संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के चेयरमैन बने प्रोफेसर प्रदीप कुमार जोशी

यूपीएससी के अध्यक्ष के तौर पर जोशी का कार्यकाल 12 मई 2021 तक होगा. जोशी को अध्यक्ष बनाए जाने के बाद यूपीएससी में अब एक सदस्य का पद रिक्त हो गया है. 

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के चेयरमैन बने प्रोफेसर प्रदीप कुमार जोशी

नई दिल्ली :  शिक्षाविद् प्रोफेसर प्रदीप कुमार जोशी को शुक्रवार को संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है, जोशी अभी तक आयोग के सदस्य थे. 12 मई, 2015 को उन्‍हें आयोग का सदस्य बनाया गया था.आपको बता दें कि यूपीएससी भारत के नौकरशाहों एवं राजनयिकों समेत सभी अहम पदों पर नियुक्ति के लिए सिविल सेवा परीक्षा का आयोजन करता है. इससे पहले जोशी छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष पद की कमान संभाल चुके थे. 

यूपीएससी की ओर से जारी बयान के अनुसार आयोग में शामिल होने से पहले वह छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग और मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष थे. बयान के अनुसार उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षण योजना एवं प्रशासन संस्थान (NIEPA) के निदेशक के रूप में भी सेवाएं दीं. बयान में कहा गया, "अपने शानदार अकादमिक करियर में प्रोफेसर जोशी ने परा स्नातक स्तर पर 28 से अधिक वर्षों तक पढ़ाया और विभिन्न नीति निर्धारण, शैक्षणिक और प्रशासनिक निकायों में कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी सेवाएं दीं" 

यूपीएससी के अध्यक्ष के तौर पर जोशी का कार्यकाल 12 मई 2021 तक होगा. जोशी को अध्यक्ष बनाए जाने के बाद यूपीएससी में अब एक सदस्य का पद रिक्त हो गया है. 

वर्तमान में भीम सेन बस्सी, एयर मार्शल ए एस भोंसले (सेवानिवृत्त), सुजाता मेहता, मनोज सोनी, स्मिता नागराज, एम सत्यवती, भारत भूषण व्यास, टी सी ए आनंद और राजीव नयन चौबे यूपीएससी के अन्य सदस्य हैं.

आयोग भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS),भारतीय पुलिस सेवा (IPS) और भारतीय विदेश सेवा (IFS) समेत अहम सेवाओं के लिए वार्षिक सिविल सेवा परीक्षा आयोजित कराता है.