close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अरुण जेटली की हालत नाजुक, दिया जा रहा है ECMO और IABP, यूपी में कै‍बि‍नेट विस्‍तार टला

पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली की हालत अब भी बेहद नाजुक बनी हुई है, जिसके चलते देश भर में दुआओं का दौर जारी है. ऐसे में राज्‍यसभा सांसद सुभाष चंद्रा भी पूर्व वित्‍तमंत्री अरुण जेटली को देखने के लिए एम्‍स पहुंचे.

अरुण जेटली की हालत नाजुक, दिया जा रहा है ECMO और IABP, यूपी में कै‍बि‍नेट विस्‍तार टला
इसके अलावा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, अश्‍वि‍नी चौबे, ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया और बीजेपी संगठन महामंत्री वी सतीश भी जेटली का हाल जानने के लिए एम्‍स पहुंचे.

नई दिल्ली: एम्‍स में भर्ती पूर्व वित्‍तमंत्री अरुण जेटली की हालत और नाजुक हो गई है. सूत्रों के अनुसार उन्‍हें एम्‍स में एक्‍स्‍ट्राकारपोरल मेंब्रेन ऑक्‍सीजनेशन ECMO और इंट्रा ऐरोटिक बेलून IABP सपोर्ट पर रखा गया है. उनकी बिगड़ती हालत के कारण ही यूपी में सोमवार को होने वाला कैबि‍नेट विस्‍तार भी टाल दिया गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को अपनी भूटान की दो दिवसीय यात्रा पूरी कर वापस भारत लौट आए हैं. दिल्‍ली एयरपोर्ट पर उनका स्‍वागत विदेशमंत्री एस जयशंकर ने किया. इन सबके बीच बताया जा रहा है कि पीएम मोदी जेटली की स्वास्थ्य स्थिति का जायजा लेने एम्स जा सकते हैं.

वहीं, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रविवार शाम करीब 7 बजे एम्स पहुंचे. बता दें कि पूर्व वित्त मंत्री और बीजपी के कद्दावर नेता अरुण जेटली बीती 9 अगस्त से दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती हैं, जहां उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. 

पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली की हालत अब भी बेहद नाजुक बनी हुई है, जिसके चलते देश भर में दुआओं का दौर जारी है. ऐसे में राज्‍यसभा सांसद सुभाष चंद्रा भी पूर्व वित्‍तमंत्री अरुण जेटली को देखने के लिए एम्‍स पहुंचे. इसके अलावा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, अश्‍वि‍नी चौबे, ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया और बीजेपी संगठन महामंत्री वी सतीश भी जेटली का हाल जानने के लिए एम्‍स पहुंचे.

 

वहीं, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी रविवार को एम्स पहुंचे. केजरीवाल के अलावा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत भी पूर्व वित्त मंत्री का हाल जानने एम्स पहुंचे थे. बता दें कि पूर्व वित्तमंत्री को एक्सट्रा-कॉर्पोरेशनल मेंब्रेन ऑक्सिजिनेशन (ईसीएमओ) में रखा गया है. ईसीएमओ में ऐसे मरीजों को रखा जाता है, जिनके फेफड़े और हृदय काम नहीं कर पाते हैं. 

बता दें 9 अगस्त की सुबह 11 बजे अरुण जेटली को एम्स में भर्ती किया गया था. तब उन्हें सांस लेने की तकलीफ थी. उसके बाद से जेटली वेंटिलेटर पर बने हुए हैं. हालांकि 12 अगस्त और 13 अगस्त को वेंटिलेटर कुछ देर के लिए हटाया गया था, लेकिन बहुत सुधार नहीं हुआ और वेंटिलेटर फिर से लगाना पड़ा.