close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: 100 करोड़ की ठगी का मामला आया सामने, 18 आरोपी गिरफ्तार

रेडियो एक्टिव पदार्थ व एंटिक आईटम बेचने के नाम पर ठगों ने फर्जी कंपनी बनाकर आम लोगों को निशाना बनाया. 

जयपुर: 100 करोड़ की ठगी का मामला आया सामने, 18 आरोपी गिरफ्तार
जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने प्रेस-वार्ता कर जानकारी दी. (प्रतीकात्मक फोटो)

शरद पुरोहित, जयपुर: राजधानी जयपुर के पुलिस कमिश्नरेट ने करीब 100 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी के मामले का खुलासा किया है. ये ठगी रेडियो एक्टिव पदार्थ व एंटिक आईटम के नाम पर की गयी थी. इस दौरान ठगों ने फर्जी कंपनी बनाकर आम लोगों को निशाना बनाया. 

इस संबंध में जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने शुक्रवार को एक प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि रेडियोएक्टिव न्यूक्लियर के नाम पर कई लोगों को ठगा गया है. इस दौरान R1 92 रेडियोएक्टिव मटेरियल को दुनिया का सबसे महंगा मटेरियल बता कर कई लोगों को बेचने का प्रयास किया. जिसको नासा सहित अनेक देशों के वैज्ञानिकों की ओर से बनाने का दावा किया गया था.

उन्होंने बताया कि इस कथित रेडियोएक्टिव मैटेरियल के 1 इंच की कीमत 500 से 700 करोड़ रुपए बताई गई थी. ठगों को पीड़ित पक्ष ने इसके टेस्टिंग के लिए करोड़ों रुपए दिए थे. जिसकी टेस्टिंग जयपुर के पास कानोता के एक फार्म हाउस में कराई गई थी. 

उन्होंने यह भी बताया कि रेडियोएक्टिव पदार्थ दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का सरगना गणेश इंगले ने कई लोगों के साथ मिलकर देश में दर्जनों लोगों को अपना शिकार बनाया है. पुलिस ने मामले में 18 लोगों को गिरफ्तार किया है. जबकि 4 अन्य मामले कंपनी के खिलाफ दर्ज हुए हैं.

एंटिक आईटम के नाम पर भी की गई ठगी

आरोपियों ने कुछ लोगों से एंटिक आईटम के नाम पर भी ठगी की. चमत्कारी माला, आरपार दिखायी देने वाला शीशा, पारदर्शी देखने वाला चश्मा, दुर्लभ पेंटिग, मायावी शक्तियों का झांसा देकर भी पीड़ितों से करोड़ो रुपये लिये. 

आरोपी न्यूज चैनल का था मालिक

पुलिस की जांच में सामने आया कि मामले में आरोपी भवानी सिंह अपने साथियों के साथ जयपुर में लक्जरी लाईफ जी रहा था. अपना दबदबा बनाये रखने के लिए ठगी के रुपयों से आरोपी ने एक न्यूज चैनल बीटीएस भी जयपुर से शुरु कर लिया. हालाकि बाद में ये चैनल बंद कर दिया गया.

कई आरोपी अभी भी हैं फरार

पुलिस ने मामले में आरोपी अजय सिंह को तो गिरफ्तार कर लिया. लेकिन मुख्य भुमिका में काम कर रहे भवानी सिंह, विनय अग्रवाल जैसे शातिर अभी भी फरार चल रहे है. जिनकी पुलिस तलाश कर रही है. जयपुर कमिश्नरेट का कहना है कि आरोपियों से पुछताछ के दौरान मामले में कई और खुलासे हो सकते हैं.