close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता की अंतिम यात्रा में शामिल हुए अशोक गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत वरिष्ठ अधिवक्ता मुरलीधर पुरोहित के निधन पर उनके निवास स्थान पर पहुंचे और अंतिम यात्रा में शामिल हुए. 

राजस्थान उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता की अंतिम यात्रा में शामिल हुए अशोक गहलोत
वरिष्ठ अधिवक्ता मुरलीधर पुरोहित का मंगलवार को देर शाम निधन हो गया था.

जोधपुर: राजस्थान उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता मुरलीधर पुरोहित के अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जोधपुर आए. गहलोत वरिष्ठ अधिवक्ता मुरलीधर पुरोहित के निधन पर उनके निवास स्थान पर पहुंचे और अंतिम यात्रा में शामिल हुए. वरिष्ठ अधिवक्ता मुरलीधर पुरोहित का कल देर शाम निधन हो गया था. पुरोहित के निधन का समाचार मिलने पर मुख्यमंत्री ने जोधपुर आने का प्रोग्राम बनाया.

खबर के मुताबिक बुद्दवार की सुबह राजकीय विमान से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जोधपुर पहुंचे. एयरपोर्ट से मुख्यमंत्री सीधे शास्त्री नगर स्थित मुरलीधर पुरोहित के निवास स्थान पर गए. निवास स्थान पर उन्होंने स्वर्गीय मुरलीधर पुरोहित के अंतिम दर्शन कर पुष्प चक्र अर्पित किए. 

वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ ऊर्जा मंत्री बी.डी. कल्ला, विधायक मनीषा पंवार, महेंद्र विश्नोई, किसनाराम विश्नोई भी उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुए. साथ ही  अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के न्यायाधीश जस्टिस दलवीर भंडारी, हाई कोर्ट जस्टिस संगीत लोढ़ा, जस्टिस विनीत माथुर, जस्टिस संदीप मेहता, जस्टिस पी के लोहरा, जस्टिस अतुल भंसाली, जस्टिस प्रकाश टाटिया, पूर्व जस्टिस गोपाल व्यास सहित कई न्यायाधिपथी महापौर घनश्याम ओझा सहित न्यायिक, राजनीतिक एवं सामाजिक संस्थान से जुड़े गणमान्य नागरिक मुरलीधर पुरोहित के निवास पर पहुंचे और उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए.  

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पुरोहित की अर्थी को कंधा दिया और उसके बाद चांदपोल स्थित स्वर्गाश्रम भी गए. यहां मुरलीधर पुरोहित के अंतिम संस्कार होने तक वह स्वर्ग आश्रम में मौजूद रहे. इस दौरान उन्होंने मुरलीधर पुरोहित के पुत्र एडवोकेट आनंद पुरोहित को ढांढस बंधाया. इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी बहन विमला देवी के घर पहुंचे और उनसे राखी बंधवाई.

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत हर राखी पर जोधपुर आते हैं और अपनी बहन विमला देवी से राखी बंधवाते हैं. लेकिन इस बार 15 अगस्त को राखी होने की वजह से वह जोधपुर नहीं आ पाए थे. जिसके कारण मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जोधपुर पहुंचे तो अपनी बहन के घर पहुंचकर राखी बंधवाई.