close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

धौलपुर: पीएम मोदी के जन्मदिन पर वसुंधरा ने वितरित किए फल, मरीजों से लिया हाल-चाल

धौलपुर जिले के राजाखेड़ा क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित गांवों (Flood Affected Villages) का दौरा कर पूर्व सीएम वसुंधरा राजे धौलपुर जिले के डॉ.मंगल सिंह राजकीय चिकित्सालय पहुंची.

धौलपुर: पीएम मोदी के जन्मदिन पर वसुंधरा ने वितरित किए फल, मरीजों से लिया हाल-चाल
धौलपुर जिले के चिकित्सालय में फल वितरित करतीं पूर्व सीएम राजे. (फोटो साभार: Twitter/vasundhraraje)

धौलपुर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन (Birthday Of PM Modi) पर मंगलवार को पूर्व सीएम वसुंधरा राजे (Vasundhra Raje) ने धौलपुर (Dhaulpur)में फल वितरित किए. इस दौरान पूर्व सीएम राजे ने गहलोत सरकार(Gehlot Government) पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा कि आपदा से जूझते हुए आज 5 दिन गुजर गए, लेकिन जनता परेशान दिख रही है.

धौलपुर जिले के राजाखेड़ा क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित गांवों (Flood Affected Villages) का दौरा कर पूर्व सीएम वसुंधरा राजे धौलपुर जिले के डॉ.मंगल सिंह राजकीय चिकित्सालय पहुंची. जहां उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में वृद्धजन वार्ड में मरीजों को फल वितरित किए और मरीजों से कुशल क्षेम पूछी.

इस दौरान पूर्व सीएम राजे ने कहा कि 17 सितंबर को आज के दिन हमारे प्रधानमंत्री का जन्मदिन है. हम लोगों ने सेवा सप्ताह शुरू किया था. जो आगामी 20 सितंबर को समाप्त हो जाएगा.

राजे ने कहा कि हम लोगों ने तय किया था कि इस दौरान ब्लड डोनेशन कैंप, हॉस्पिटल और स्वच्छता इन कामों को अपने हाथ से करेंगे. इस दौरान राजे ने पीएम नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की बहुत सारी शुभकामनाएं दी. उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य वृद्धजनों के लिए किया गया है. बीजेपी कार्यकर्ता (BJP Workers) कार्यक्रम को आगे बढ़ाने का और काम करेंगे.

कार्यक्रम के बाद पूर्व सीएम राजे ने कहा कि राजस्थान में 4 दिन पूर्व काफी अच्छी बारिश हुई थी. उसकी वजह से चंबल नदी में बाढ़ आई है. मुझे लोगों ने बताया था कि 1996 के बाद इस तरह का बाढ़ धौलपुर में नहीं आया है. पानी चौतरफा एरिया में फैला हुआ है. 

उन्होंने कहा कि मैंने राजाखेड़ा इलाके के 20 से 22 गांव का दौरा कर देखा कि सभी गांव पानी से जलमग्न थे. पुराने पुल से जो नजारा जलभराव दिखाई दे रहा था, वह गांव में जाकर फैल गया है. 

उन्होंने गांव गोपालपुरा, चीलपुरा, मोहनपुरा इसके अलावा कई गांवों के लोगों की नाव में बैठकर आने की जानकारी दी. उन्होंने कहा कि लोगों ने मुझे बताया कि उनके ऊपर बहुत बड़ा संकट आया है. प्रशासन को जिस तरीके से मदद करनी चाहिए थी, वह नहीं हो पाई. राजे ने कहा कि मुझे यहां तक बताया गया कि जो लोग प्रशासन के नुमाइंदे थे. उनके लिए भोजन नहीं पहुंच पाया, तो आम आदमी को भोजन कैसे मिलेगा.

पूर्व सीएम ने चिकित्सा विभाग की सराहना करते हुए कहा कि व्यवस्थाएं ठीक पाई गई. चिकित्सा विभाग की तरफ से एएनएम और जितने भी कर्मचारी थे, अपनी सेवाएं दे रहे थे. बाढ़ आपदा में फंसे हुए ग्रामीणों ने भी चिकित्सा विभाग के काम की सराहना की है. वसुंधरा राजे ने चिकित्सा विभाग को इस काम के लिए धन्यवाद भी दिया. लेकिन प्रशासन द्वारा केरोसिन, चारा, भोजन के पहुंचाने की बात सिर्फ प्रेस कॉन्फ्रेंस तक सीमित रहने की बात भी कही.

उन्होंने कहा कि आपदा से जूझते हुए आज 5 दिन गुजर गए, जनता परेशान हो रही है. सरकार और सरकार के नुमाइंदों को बहुत जल्दी संवेदनशील होकर खुद कलेक्टर को मौके पर पहुंचना चाहिए. आपदा में फंसे हुए लोगों को राहत पहुंचाना सरकार की  जिम्मेदारी है.

पूर्व सीएम राजे ने भारी जलभराव से हुए नुकसान की रिपोर्ट बनाने और उचित मुआवजा देने की मांग की. राजे ने बीजेपी की तरफ से टीम बनाकर बाढ़ आपदा वाले गांवों में भेजकर राहत दिलाने की कोशिश करने की बात कही.