close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BJP को एक और बड़ा झटका, जयपुर जिला प्रमुख के खिलाफ खारिज हुआ अविश्वास प्रस्ताव

जिला प्रमुख के अविश्वास प्रस्ताव पर 27 सदस्यों ने वोटिंग की, जिसमें से 26 बीजेपी और एक निर्दलीय सदस्य थे. हालांकि दो कांग्रेसी सदस्यों ने भी बीजेपी का समर्थन किया था

BJP को एक और बड़ा झटका, जयपुर जिला प्रमुख के खिलाफ खारिज हुआ अविश्वास प्रस्ताव
फिलहाल जयपुर जिला परिषद में कुल 51 सदस्य हैं.

जयपुर: राजस्थान के जयपुर जिला परिषद में कांग्रेस के जिला प्रमुख मूलचंद मीणा के लिए लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया है. कौरम पूरा नहीं होने की वजह से मूलचंद मीणा ही जयपुर जिले के जिला प्रमुख बने रहेंगे. बुधवार को जयपुर जिला परिषद में जिला प्रमुख के खिलाफ बीजेपी पार्षदों द्वारा लाया गया अविश्वास प्रस्ताव समर्थन के अभाव के कारण गिर गया.

जिला प्रमुख के अविश्वास प्रस्ताव पर 27 सदस्यों ने वोटिंग की, जिसमें से 26 बीजेपी और एक निर्दलीय सदस्य थे. हालांकि दो कांग्रेसी सदस्यों ने भी बीजेपी का समर्थन किया था लेकिन परिस्थितियां देखते हुए उन्होंने भी वोट नहीं दिया. कांग्रेस की मंजू देवी और बेनीप्रसाद कटारिया सदन में आए तो थे लेकिन उन्होने वोट नहीं दिया. इसके अलावा कांग्रेस सदस्य वंदना देवी सदन के बाहर से माहौल देखकर चली गई. 

लोकसभा चुनाव से पहले शहर की नगर निगम सरकार और फिर उसके बाद में गांव की जिला परिषद सरकार में बीजेपी एक बार फिर से मुखिया के चुनाव में हार देखनी पड़ी. हालांकि, अविश्वास प्रस्ताव को लेकर आखिरी समय तक बीजेपी के सदस्यों ने कांग्रेस सदस्यों से संपर्क साधने की कोशिश. अविश्वास प्रस्ताव खारिज होने के बाद बीजेपी के सदस्यों ने कांग्रेस पर धोखा देने का आरोप लगाया. उप जिला प्रमुख मोहनलाल शर्मा का कहना था कि पार्टी के दबाव के चलते कांग्रेस नेताओं ने हमारा साथ छोड़ दिया. पहले तो उन्होंने बीजेपी को समर्थन किया था, लेकिन उसके बाद कांग्रेसी पार्षदों ने मूंह फेर लिया. वहीं कांग्रेस से नेता प्रतिपक्ष मोहनलाल डागर का कहना था कि बीजेपी इस चाल में कामयाब नहीं हुई, बिना सोचे समझे यह अविश्वास प्रस्ताव लाया गया.

फिलहाल जयपुर जिला परिषद में कुल 51 सदस्य हैं. जिसमें बीजेपी के 26, कांग्रेस के जिला प्रमुख समेत 23 और निर्दलीय दो सदस्य है. जिला परिषद सीईओं भारती दीक्षित ने कहा कि कौरम पूरा होने ही वजह से अविश्वास प्रस्ताव को खारिज किया जाता है.

(इनपुट: अंकित तिवारी, आशीष चौहान)