close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IPL शुरू होने से पहले खेल परिषद और राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन में हुआ विवाद

खेल परिषद जहां एमओयू की शर्तों के आधार पर जो जगह दी है उनकी नापजोख की बात कर रहा था, वहीं राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन इसके पीछे कुछ और ही वजह होने के आरोप लगा रहा था

IPL शुरू होने से पहले खेल परिषद और राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन में हुआ विवाद
राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी स्टेडियम में प्रैक्टिस के लिए पहुंचे तो उन्हें स्टेडियम के अंदर प्रवेश नहीं करने दिया गया

जयपुर: 5 मार्च से जयपुर के एसएमएस स्टेडियम में आईपीएल के मैच शुरू होने जा रहा है. लेकिन मैच के ठीक 48 घंटे पहले ही खेल परिषद और राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन में अब खुलकर विवाद देखने को मिल रहे हैं. शनिवार की सुबह जब राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी स्टेडियम में प्रैक्टिस के लिए पहुंचे तो उन्हें स्टेडियम के अंदर प्रवेश नहीं करने दिया. इस दौरान स्टेडियम के चारों गेटों पर ताले लटका दिए गए.

खेल परिषद जहां एमओयू की शर्तों के आधार पर जो जगह दी है उनकी नापजोख की बात कर रहा था, वहीं राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन इसके पीछे कुछ और ही वजह होने के आरोप लगा रहा था. सुबह करीब 9 बजे जब राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी स्टेडियम पहुंचे तो तालाबंदी की बात सामने आई, लेकिन खेल परिषद ने इसके बाद भी करीब 11.30 बजे तक स्टेडियम की तालाबंदी करके रखी. इस दौरान अजिंक्या रहाणे सहित टीम के अन्य सदस्य और टीम मैनेजर को भी अंदर नहीं जाने दिया. बाद में खेल परिषद सचिव से वार्ता के बाद सिर्फ अजिंक्या रहाणे को ही अंदर जाने दिया गया.

जयपुर में आईपीएल का मैच होने से ठीक 48 घंटे पहले एक बार फिर से विवाद गहराते जा रहे हैं और ऐसा इसलिए क्योंकि आरसीए और खेल परिषद के बीच हुए एमओयू में कई स्थानों को जगह नहीं दी गई थी, लेकिन उसके बाद भी राजस्थान रॉयल्स ने इन स्थानों पर होर्डिंग्स लगा दिए. साथ ही इसकी जानकारी भी खेल परिषद को नहीं दी गई, जिसके बाद आज खेल परिषद की ओर से स्टेडियम में कई जगहों की फिर से नापजोख की गई. करीब 2 घंटे तक तालाबंदी और उसके बाद विवाद बढ़ता हुआ देख खेल परिषद की ओर से स्टेडियम के ताले खोले गए. 

खेल परिषद अरुण कुमार हसीजा ने बताया की दो दिन पहले बीसीसीआई ने बकाया 1 करोड़ 80 लाख रुपये में से 1 करोड़ 40 लाख रुपये खेल परिषद के खाते में जमा करवा दिए हैं और इसके बाद से कोई विवाद नहीं रहा है. एमओयू में कई जगहों को शामिल नहीं किया गया था, लेकिन इन स्थानों पर भी राजस्थान रॉयल्स द्वारा काम करवाया जा रहा था. जिसकी आज नाप ली गई है और इस संबंध में राजस्थान रॉयल्स प्रबंधन को शुक्रवार को ही अगवत करवा दिया गया था. साथ ही अरुण कुमार हसीजा ने बताया की तालाबंदी किसी विवाद की वजह से नहीं की गई थी.

एक ओर जहां आज स्टेडियम की तालाबंदी चर्चा का विषय बनी रही थी. वहीं दूसरी ओर फायर फाइटिंग सिस्टम और नगर निगम की एनओयू की भी अभी तक स्टेडिटय को नहीं मिल पाई है, ऐसे में मैच से पहले स्टेडियम में और भी विवाद सामने आने की पूरी संभावना है.