close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल: मनीषा कोइराला की सेशन में खूबसूरती और सेक्स लाइफ पर रखी गई बेबाक राय

अभिनेत्री मनीषा कोइराला ने टि्वटर फेसबुक पर हुए कमेंट को लेकर भी सेशन के दौरान चर्चा की.

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल: मनीषा कोइराला की सेशन में खूबसूरती और सेक्स लाइफ पर रखी गई बेबाक राय
सोनल मान सिंह ने कहा कि उम्र बढ़ने से सेक्स लाइफ पर असर नहीं पड़ता.

आशीष चौहान, जयपुर: जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 2019 के अंतिम दिन सोमवार (28 जनवरी) को खूबसूरती को लेकर चर्चा की गई. जिसमें अभिनेत्री मनीषा कोइराला ने अपने विचार रखें. सोमवार को इस पूरे सेशन के दौरान महिलाओं की सेक्स लाइफ और खूबसूरती को लेकर वक्ताओं ने अपनी राय बेबाक तरीके से रखी.

''ब्रेकिंग फ्री ए न्यू काइंड ऑफ ब्यूटीफुल'' सेशन के दौरान, ''महिलाओं की खूबसूरती को लेकर सवाल उठाने की जगह क्यों नहीं उनके अंदर की खूबसूरती को देखा जाता है'' पर कोइराला ने अपनी राय रखी. इस दौरान क्यों पुरुषों की उम्र ज्यादा होने पर सवाल नहीं उठाए जाते जैसे सवालों का भी उन्होंने जवाब दिया. साथ ही अभिनेत्री मनीषा कोइराला ने टि्वटर फेसबुक पर हुए कमेंट को लेकर भी सेशन के दौरान चर्चा की.

महिलाओं की खूबसूरती को लेकर खड़े किए जाते हैं सवाल

मनीषा ने कहा, "क्यों केवल चेहरे की खूबसूरती ही देखी जाती है. उम्र के साथ साथ महिलाओं की खूबसूरती को लेकर सवाल खड़े करे जाते हैं कि महिलाओं के चेहरे पर झुर्रियां पड़ गई है या फिर वे उनकी उम्र अब ज्यादा होने से भी खूबसूरत दिखाई नहीं दे रही है." 

दिल की गहराइयों को बताना है खूबसूरती

मनीषा ने यह भी कहा, "खूबसूरती तो दिल से होनी चाहिए भाव से होनी चाहिए केवल बाहरी खूबसूरती को खूबसूरती नहीं कहा जा सकता है. इसलिए अंदर की खूबसूरती को इंसानों को पहचानना चाहिए. खूबसूरती को लेकर मुझे फेसबुक ट्विटर पर कई तरह के कॉमेंट्स मेरे लिए आते हैं. जिसमें कहा जाता है कि मेरे चेहरे पर पहले से ज्यादा झुरिया पड़ गई है. लेकिन मैं बता दूं कि केवल चेहरे की खूबसूरती को खूबसूरती नहीं कहा जा सकता है. बल्कि दिल की गहराइयों और भावनाओं को प्रकट करना भी खूबसूरती कहा जा सकता है"

उम्र बढ़ने से भी नहीं पड़ता सेक्स लाइफ पर असर

वहीं, कार्यक्रम के दौरान मौजूद क्लासिकल डांसर सोनल मानसिंह ने कहा, "लोगों की मानसिकता केवल उम्र पर ही टिकी हुई है, यह जरूरी नहीं है कि उम्र ढल जाने से उसकी खूबसूरती का सेक्स लाइफ पर कोई फर्क पड़ता है. पुरुषों की उम्र निकल जाती है तब तो कोई सवाल नहीं उठाता. लेकिन जब महिलाओं पर उम्र का असर दिखने लगता है तो क्यों सवाल उठाए जाते हैं? लोगों को अपनी मानसिकता बदलनी चाहिए और अंदर की खूबसूरती को तराशना चाहिए."

जयपुर लिट्रेचर फेस्टिवल के अंतिम दिन खूबसूरती को लेकर हुई चर्चा में मनीषा कोइराला के अलावा शरद पॉल, माधवी मेनन ने भी अपने विचार रखे.