close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: गरीबों के आशियाने के सपने टूटे, PM आवास योजना का लक्ष्य रह गया अधूरा

100 दिनों के अंदर लक्ष्य पूरा करने का वायदा अब तक पूरा नहीं होने पर सरकारी अधिकारियों को फटकार लगाई है.

राजस्थान: गरीबों के आशियाने के सपने टूटे, PM आवास योजना का लक्ष्य रह गया अधूरा
ग्रामीण विकास मंत्रालय 9 बार विभाग को पत्र लिखकर खेद जता चुका है. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के जरिए अपने आशियाने का सपना संजोए लाखों परिवारों के सपने चकनाचूर होते दिखाई दे रहे है. केंद्र सरकार की इस योजना में राजस्थान के जिला कलक्टर्स इतनी लापरवाही बरत रहे है कि राज्य सरकार का 100 दिन का लक्ष्य भी समय पर पूरा नहीं हो पाया. 

आपको बता दें कि, गहलोत सरकार ने सरकार बनने के 100 दिन के अंदर राज्य में 1 लाख 75 हजार से ज्यादा आवासों का निर्माण करने का वादा किया था. लेकिन अब तक 65 फीसदी आवास का निमार्ण पूरा नही हो सका है. 23 जनवरी से प्रतिदिन 2583 आवासों का निर्माण करना था, लेकिन इन लक्ष्यों को पूरा करना तो दूर ये आसपास भी नहीं आ पाए. 

लापरवाही के लिए जिला कलक्टर्स को लगी फटकार

इस लापरवाही के बाद ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग एसीएस राजेश्वर सिंह ने सभी जिला कलक्टर्स को फटकार लगाई है. अब बचे हुए 1 लाख 29 हजार आवासों का निर्माण 31 मार्च तक पूरा करना होगा.

मंत्रालय जता चुका है खेद

इससे पहले ग्रामीण विकास मंत्रालय 9 बार विभाग को पत्र लिखकर खेद जता चुका है. लेकिन इसके बावजूद भी जिलों में आवास का निर्माण नहीं हो पा रहा है. माना जा रहा है कि अधिकारी लागातार लापरवाही बरत रहे है. ऐसे में लाखों गरीब परिवारों के आशियाने से सपने टूटते जा रहे है.

गरीबों की टूट रही है आस

हालांकि हनुमानगढ, श्रीगंगानगर, नागौर, उदयपुर जिले में तो काम अच्छा हो रहा है. लेकिन बाकी के दूसरे गांव रैकिंग में टॉप 20 का आकंडा भी नहीं छू पाए. ऐसे में समय से आवास नहीं बनने से गरीब परिवारों की आस अब टूटती जा रही है. 

 

                     टॉप 5 जिले,जहां आवास के लिए तरस गए गरीब

जिला         लक्ष्य        आवास बने        आवास नहीं बने       नेशनल रेकिंग

करौली      12591        3350             9241                308
टोंक         17922        8847             9075                282
डूंगरपुर     57134        35290           21844              261
चुरू         14724        9236             5488                254
जैसलमेर   12044        6811             5233                253