राजस्थान की सबसे बड़ी औद्योगिक संस्था वीकेआई के चुनाव, जीत के साथ मिलेंगी चुनौतियां

राजस्थान के सबसे बड़े औद्योगिक संगठन विश्वकर्मा औद्योगिक एसोसिएशन की नई कार्यकारिणी के चुनाव संपन्न हुए.   

राजस्थान की सबसे बड़ी औद्योगिक संस्था वीकेआई के चुनाव, जीत के साथ मिलेंगी चुनौतियां
विश्वकर्मा औद्योगिक एसोसिएशन की नई कार्यकारिणी के चुनाव

अंकित तिवाड़ी, जयपुर: राजस्थान के सबसे बड़े औद्योगिक संगठन विश्वकर्मा औद्योगिक एसोसिएशन की नई कार्यकारिणी के चुनाव संपन्न हुए. 1644 मतदाताओं को मतदाता सूची में स्थान मिला. दो साल के लिए चुनी जानी वाली नई कार्यकारिणी के अध्यक्ष और सदस्यों के लिए उद्यमियों ने उत्साह के साथ मतदान किया. इस बार चुनावों में चौधरी-सोमानी ग्रुप से ताराचंद चौधरी और प्रेम पोद्दार ग्रुप से उदय भुवालका अध्यक्ष पद के दावेदार हैं.

वीकेआई औद्योगिक एसोसिएशन के चुनाव
विश्वकर्मा औद्योगिक क्षेत्र की नई कार्यकारिणी के लिए शनिवार को मतदान हुआ. मतदान के लिए उद्यमियों की लंबी कतारें देखी गई. प्रदेश के इस औद्योगिक क्षेत्र में देश और दूनिया में नाम कमा रही औद्योगिक ईकाई संचालित है. कई बड़े कारोबारी घरानों के भी वेंचर वीकेआई में हैं. सरकार से संवाद के लिहाज से भी यह ईकाई अहम स्थान रखती है. ऐसे में प्रत्येक दो साल में होने वाले कार्यकारिणी के चुनावों में उत्साह भी चरम पर होता है. इस बार चौधरी-सोमानी ग्रुप और प्रेम पोद्दार कानूनगो ग्रुप में सीधी टक्कर है.

चुनाव प्रक्रिया शांतिपूर्वक संपन्न 
मतदान के दौरान दोनों समूहों के दावेदार अपने पक्ष में अधिक मतदान करने की कोशिश में दिखे. चुनाव समिति के अध्यक्ष बीएल गुप्ता ने बताया कि वीकेआई औद्योगिक एसोसिएशन प्रदेश के प्रतिष्ठित संगठनों में है, ऐसे में राजस्थान बार काउंसिल का सदस्यों का सहयोग चुनाव प्रक्रिया में लिया गया. पुलिस के जवान भी ऐतिहातन तैयार रहे. हालांकि पूरी चुनाव प्रक्रिया शांतिपूर्वक संपन्न हुई. 

सीसीटीवी और पुलिस की मदद
मुख्य चुनाव अधिकारी राजेश महर्षि ने बताया कि 30 बैलेट केंद्रों पर मतदान की व्यवस्था की गई थी. मतदान प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी रहे इसके व्यापक इंतजाम किए गए. सीसीटीवी और पुलिस की मदद भी व्यवस्था बनाए रखने के लिए ली गई. चुनाव में 1629 सदस्यों के साथ 15 अन्य सदस्यों को मताधिकार के लिए अधिकृत किया. मतदान का परिणाम देर रात तक घोषित होने की उम्मीद है.

करने होंगे काम
एसोसिएशन भवन में उद्यमियों ने लोकतांत्रित तरीके से अपने पदाधिकारी चुने हैं. परिणामों के बाद जिसके सिर पर जीत का सेहरा बंधेगा, उसके सामने चुनौतियों का पहाड़ भी होगा. उद्यमी रीको की कार्यप्रणाली से बेहद खफा हैं, ऐसे में साफ सफाई, अतिक्रमण, सड़कों को सुधारने, रोड लाइटें लगवाने और यातायात जाम की समस्या का समाधान तलाशने के प्रयास पहले दिन से करने होंगे.