खाद्य पदार्थों की शुद्धता परखने के लिए FSSAI ने जारी की गाइडलाइन

आमजनता को शुद्ध खाद्य पदार्थ मिल सके इसके लिए अब सभी दुकानों एवं प्रतिष्ठानों पर फ़ूड सेफ्टी डिस्प्ले बोर्ड लगाए जाएगें. 

खाद्य पदार्थों की शुद्धता परखने के लिए FSSAI ने जारी की गाइडलाइन
अब अलग-अलग खाद्य सामग्री और प्रतिष्ठान के हिसाब से 9 प्रकार के कलर कोड का प्रारूप जारी कर दिया गए है

श्रीगंगानगर/हरनेक सिंह: देश में खाद्य पदार्थों में मिलावट को रोकने के लिए भारतीय खाद्य सरंक्षा एवं मानक प्राधिकरण ने बड़ा कदम उठाते हुए दुकानदारों एवं व्यापारियों के लिए गाइडलाइन जारी की है. जिसके तहत आमजन को शुद्ध खाद्य पदार्थ मिल सके इसके लिए अब सभी दुकानों एवं प्रतिष्ठानों पर फ़ूड सेफ्टी डिस्प्ले बोर्ड लगाए जाएगें. 

भारतीय खाद्य सुरंक्षा एवं मानक प्राधिकरण ने गाइडलाइन जारी कर सभी खाद्य कारोबारी, व्यापारी एवं दुकानदारों को खाद्य पदार्थों की शुद्धता के लिए विशेष कलर के फ़ूड सेफ्टी डिस्प्ले बोर्ड लगाने के निर्देश दिए है. श्रीगंगानगर जिले में सभी फल एवं सब्जी विक्रेता, दूध एवं डेयरी संबंधित उत्पाद, सड़क किनारे लगने वाली रेहडिया, होटल, ट्रांसपोर्टर अन्य छोटे बड़े खाद्य खुदरा-थोक विक्रेता आदि को अपने प्रतिष्ठानों में विशेष बोर्ड लगाना होगा, जो रिसेप्सन, बिलिंग काउंटर अथवा प्रवेश द्वार पर लगाया जाना जरूरी है.

पहले ये बोर्ड छह रंगो में होते थे लेकिन अब अलग-अलग खाद्य सामग्री और प्रतिष्ठान के हिसाब से 9 प्रकार के कलर कोड का प्रारूप जारी कर दिया गए है जिन पर बने पंजीकरण और लाइसेंस नंबर भी अंकित करने होंगे. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग श्रीगंगानगर में रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट पंजीबद्ध करवाने वाले छोटे व्यापारियों, दुकानदारों की 6050 के करीब संख्या है जिनका विभाग में अभी तक रजिस्ट्रेशन हुआ है.

वहीं बड़े व्यापारियों व दुकानदारों की यह संख्या 1038 के करीब है. जिनको अब ये बोर्ड लगाने होंगे क्योंकि विभाग के निर्देशानुसार अगर दुकानदार कोड नहीं लगाता है तो उस पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी और न्यायालय में चालान पेश किया जाएगा. फूड सेफ्टी डिस्पले बोर्ड लगाने का फायदा ना केवल मिलावट के प्रति लोगो को संचेत करना है बल्कि ग्राहकों को अपने अधिकारों के प्रति भी जागरूक करना है. संस्थान के बाहर गाइडलाइन युक्त कलर बोर्ड लगा देख ग्राहक संतुष्ट हो पाएगा कि जिस दुकानदार या व्यापारी के पास में वह सामग्री खरीदने आया है वह मानकों के हिसाब से सामान बेच रहा है.

अगर ग्राहक को कोई शिकायत होती है तो वह तुरंत उस दुकानदार के खिलाफ शिकायत दर्ज करवा सकेगा. बोर्ड के बीच में जो सेफ्टी रूल्स बिंदु अंकित किए गए हैं उनके बारे में ग्राहक दुकानदार से पूछताछ कर सकेगा. इससे ग्राहक आश्वस्त होगा कि सेफ्टी रूल्स के हिसाब से ही उसे सामग्री मिल रही है. विभाग ने भी सख्ती से निर्देश दिए हैं कि अगर कोई दुकानदार या व्यापारी बोर्ड नहीं लगाएगा तो उस पर भी नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी. इससे जो बिना लाइसेंसधारी दुकानदार या व्यापारी है उनको भी लाइसेंस लेना पड़ेगा और तय मानकों के हिसाब से ही सामान बेचना पड़ेगा.