राजस्थान में फसलों के भारी नुकसान को लेकर हनुमान बेनीवाल ने की सरकार से यह मांग...

नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि किसानों को भारी क्षति हुई है और राज्य सरकार को किसानों की सहायता के लिए आगे आना चाहिए.

राजस्थान में फसलों के भारी नुकसान को लेकर हनुमान बेनीवाल ने की सरकार से यह मांग...
राजस्थान के सीकर, बीकानेर, नागौर सहित कई इलाकों में जमकर ओलावृष्टि हुई.

जयपुर: राजस्थान में कुदरत का कहर थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. आलम यह है कि एक तरफ तो राजस्थान के सीकर, बीकानेर, नागौर सहित कई इलाकों में जमकर ओलावृष्टि हुई. वहीं दूसरी तरफ बाड़मेर से बॉर्डर के लगते इलाकों में पहली बार इतना बड़ा कुदरत का कहर बरपा की रबी की फसल पूरी की पूरी बर्बाद हो गई. यह कहर पाकिस्तान से आया पश्चिमी राजस्थान के बाड़मेर के बॉर्डर के इलाकों में बारिश की तरह टिड्डी ने अटैक कर दिया. जिसके चलते रबी की पूरी फसल नष्ट हो गई.

अब किसानों को इस बात की चिंता सता रही है जो कर्ज किसानों ने लिया था, उसकी भरपाई कैसे होगी. वहीं, मौसम विभाग के अधिकारियों ने कहा, 'बीते दो दिनों से हनुमानगढ़ और श्री गंगानगर में भी ओलावृष्टि हुई है. राज्य के अन्य हिस्सों में गरज के साथ हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश हुई है, जिससे फसलों को भारी क्षति पहुंची है'.

नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि किसानों को भारी क्षति हुई है और राज्य सरकार को किसानों की सहायता के लिए आगे आना चाहिए. उन्होंने कहा, 'उनके लिए विशेष पैकेज की घोषणा की जानी चाहिए और हम इन किसानों पर ध्यान देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह करेंगे'.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता और अन्य अधिकारियों के साथ इस बाबत बैठक की और फसलों की क्षति का सर्वेक्षण करने का निर्देश दिया. आपदा राहत सचिव सिद्धार्थ महाजन ने कहा कि आठ जिला अधिकारियों ने फसलों की क्षति से सरकार को अवगत करा दिया है.

इस बीच, मौसम विभाग ने शनिवार और रविवार को राजस्थान के श्रीगंगानगर, चुरू, हनुमानगढ़ी, सीकर, दौसा, अलवर, भरतपुर और धौलपुर के अलावा राज्य के अन्य भागों में घना कोहरा छाने की आशंका जताई है.