close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झालावाड़ से पकड़ा गया अंतरराज्यीय हथियार तस्कर, बरामद हुए 7 पिस्टल, तीन देशी कट्टे

भवानिमंडी़ थानाधिकारी लोकेंद्र पालीवाल ने अपनी टीम के साथ राजेश सेन निवासी सिंघाना, जिला धार मध्यप्रदेश को मौके से धर दबोचा है. 

झालावाड़ से पकड़ा गया अंतरराज्यीय हथियार तस्कर, बरामद हुए 7 पिस्टल, तीन देशी कट्टे
बताया जा रहा है कि हथियारों की बिक्री के दौरान कोड वर्ड काम में लिया जाता था. (प्रतीकात्मक फोटो)

झालावाड़: जिले की भवानीमंडी थाना पुलिस ने अवैध हथियारों के साथ चार अंतर राज्यीय हथियार तस्करों को धर दबोचा है.  पुलिस ने गिरफ्तार बदमाशों के पास से 7 पिस्टल, तीन देशी कट्टे और 12 जिंदा कारतूस भी बरामद किए हैं. 

इस संबंध में झालावाड़ एसपी शिवराज ने मीणा ने मीडिया को बताया कि पुलिस द्वारा अवैध हथियारों के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के तहत मुखबीर से सुचना मिली थी. जिसके बाद नए बस स्टैंड के पास अवैध हथियार लेकर बेचने आए तस्कर को गिरफ्तार किया गया है. इस दौरान भवानिमंडी थानाधिकारी लोकेंद्र पालीवाल ने अपनी टीम के साथ राजेश सेन निवासी सिंघाना, जिला धार मध्यप्रदेश को मौके से धर दबोचा है. 

बताया जा रहा है कि तस्कर के कब्जे से 4 पिस्टल 3 देशी कट्टे, व 6 जिंदा कारतूस बरामद किए गए हैं. फिलहाल पुलिस थाने में आरोपी तस्कर से पुछताछ कर रही है. तस्कर से मिली सूचना के बाद तीन हथियार क्रेता को पुलिस ने पकड़ा है. जिसमें मोनू राठौर उर्फ मोनू शूटर निवासी झालरापाटन को गिरफ्तार किया है. उसके पास से एक पिस्टल व दो जिंदा कारतूस बरामद किया गया है. वहीं, शकील खान निवासी भानपुरा मध्यप्रदेश से एक पिस्टल व दो जिंदा कारतूस बरामद किया गया है. इसके अलावा मोहसिन खान निवासी सोयत कला जिला सागर मध्यप्रदेश से भी एक पिस्टल व दो जिंदा कारतूस बरामद किया गया है. 

पुलिस सूत्रों के अनुसार मुख्य हथियार तस्कर आरोपी राजेश ने बताया है कि वह आपने गांव सिंघाना से हथियार बेचने झालावाड़ जिले में आया था. तीन व्यक्तियों को यहां हथियार बेचने के बाद बचे हुए हथियारों को बेचने भवानीमंडी जा रहा था. 

हथियारों की बिक्री के दौरान कोड वर्ड होता है प्रयोग

हथियार तस्कर राजेश ने बताया है कि हथियारों की बिक्री के दौरान कोड वर्ड काम में लिए जाते थे. जिसमें पिस्टल को मोबाइल मैगजीन को बैटरी और कारतूस को सिम के नाम दिया गया था. ताकि कोई कॉल रिकॉर्डिंग कर उन तक नहीं पहुंच पाए.