close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: ट्यूबवेल खुदने के 4 महीने बाद भी जनता प्यासी, मंत्री जी ने दिए जांच के आदेश

प्रदेश की राजधानी जयपुर शहर की प्यास बुझाने वाला जलदाय विभाद अब खलनायक बन गया है. जी मीडिया की पड़ताल में ये खुलासा हुआ है कि जो ट्यूबवेल्स शहर की प्यास बुझाने के लिए खोदे गए थे, लेकिन उनसे अभी तक पानी ही नहीं पहुंच रहा. 

जयपुर: ट्यूबवेल खुदने के 4 महीने बाद भी जनता प्यासी, मंत्री जी ने दिए जांच के आदेश
ट्यूबवेल को खुदे करीब 5 महीने हो चुके हैं.

जयपुर: प्रदेश की राजधानी जयपुर शहर की प्यास बुझाने वाला जलदाय विभाद अब खलनायक बन गया है. जी मीडिया की पड़ताल में ये खुलासा हुआ है कि जो ट्यूबवेल्स शहर की प्यास बुझाने के लिए खोदे गए थे, लेकिन उनसे अभी तक पानी ही नहीं पहुंच रहा. 

दरअसल पानी की किल्लत को लेकर सरकार ने पीएचईडी विभाग को पूरे शहर में ट्यूबवेल्स खोदने के आदेश दिए थे. सरकार के आदेशें के बाद पीएचईडी ने ट्यूबवेल्स भी खोदे, लेकिन जनता को मिलने वाला ये पानी केवल फाइलों तक ही सीमित है. पीएचईडी के अफसरों की मिलीभगत के चलते ट्यूबवेल्स का पानी जनता तक पहुंच ही नहीं पा रहा. क्योंकि शहर में केवल ट्यूबवेल्स ही खुदाई ही हुई, उनके कनेक्शन अभी तक हुए ही नहीं. हां इतना जरूर है सरकार ये पानी फाइलों में जमकर बह रहा है.

कई इलाके तो ऐसे है जहां ट्यूबवेल्स को खुदे हुए तीन से चार महीने हो चुके है और जब से ही फाइलों में इतना पानी बह रहा है कि करप्शन फूट फूटकर बाहर आ रहा है. कृष्णा कॉलोनी में ट्यूबवेल को खुदे करीब 5 महीने हो चुके है, लेकिन अब तक ट्यूबवेल से पानी ही नहीं आ रहा है. जबकि पीएचईडी अपने रिकार्ड में यह बता रहा है कि वहां की जनता को ट्यूबवेल्स से रोजाना 048 एमएलडी पानी सप्लाई हो रहा है.

वहीं हजरत अली कॉलोनी में भी ट्यूबवेल्स को खुद हुए 4 महीने से ज्यादा हो गए, लेकिन अब तक पानी की एक बूंद जनता तक पहुंच ही नहीं पाई. अब तक ट्यूबवेल्स का बिजली से कनेक्शन ही नहीं किया गया. जेपी कॉलोनी में पानी का हाल सबसे बुरा है.यहां भी लाखों रूपए लगाकर ट्यूबवेल तो खोद दिए गए,लेकिन जनता का पानी पहुंच ही नहीं पाया.क्योकि यहां भी करप्शन का ऐसा खेल चल रहा कि केवल फाइलों तक ही पानी आ रहा है.

पूरे मामले को लेकर पीएचईडी मंत्री बीडी कल्ला ने कहा पूरे मामले की जांच करवाई जाएगी और दोषियों को बर्खास्त किया जाएगा. ऐसे में अब देखना यह होगा कि पीएचईडी कब तक दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करती है. क्योंकि इन अधिकारियों ने तो सरकार और जनता दोनों को ही बेवकूफ बनाने का काम किया है.