बड़ी खबर: Rajasthan में कल सुबह 6 से रात 12 बजे तक बंद रहेंगे Petrol-Diesel पंप

राजस्थान के सभी 7 हजार पेट्रोल पंप कल सुबह 6 से रात 12 बजे तक पूरी तरह बंद रहेंगे. 

बड़ी खबर: Rajasthan में कल सुबह 6 से रात 12 बजे तक बंद रहेंगे Petrol-Diesel पंप
राजस्थान के सभी 7 हजार पेट्रोल पंप कल सुबह 6 से रात 12 बजे तक पूरी तरह बंद रहेंगे.

Jaipur: पड़ोसी राज्यों की तुलना में पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) महंगा होने के विरोध में कल 7 हजार पेट्रोल पंप सुबह 6 से रात 12 बजे तक बंद रहेंगे. राजस्थान पेट्रोल पंप डीलर्स एसोसिएशन (Rajasthan Petrol Pump Dealers Association) ने बंद का यह निर्णय किया है, जिसके तहत पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल, डीजल और ऑयल की नो परचेज, नो सेल रहेगी. इससे प्रदेश में इसकी बिक्री में 34 प्रतिशत तक की गिरावट आ गई है और डीलर्स के साथ-साथ सरकार को भी राजस्व का नुकसान हो रहा है.

यह भी पढ़ें- Jaipur में 16वीं बार बढ़े Petrol-Diesel के दाम, जानें क्या हैं नए Rates

राजस्थान के सभी 7 हजार पेट्रोल पंप कल सुबह 6 से रात 12 बजे तक पूरी तरह बंद रहेंगे. पंजाब के समान राजस्थान में भी डीजल पर रेट घटाए जाने की मांग को लेकर पेट्रोलियम डीलर्स ने हड़ताल पर जाने का ऐलान कर दिया है. पड़ोसी राज्यों में सस्ता होने के कारण राजस्थान में डीजल की काफी तस्करी हो रही है. इस कारण राजस्थान के सीमावर्ती जिलों के पेट्रोल पंप बंद होने के हालात में आ गए. पड़ोसी राज्यों हरियाणा, गुजरात और उत्तर प्रदेश से आने वाले डीजल को बायोडीजल और उद्योगों में काम आने वाले फ्यूल के नाम से बेचा जा रहा है. डीजल की तस्करी बढ़ने से राजस्थान के पेट्रोल पंप संचालक और आम आदमी परेशान है. 

यह भी पढ़ें- Petrol-Diesel की कीमतों ने लगाई जनता की जेब में आग, सरकारें कर रहीं कमाई!

क्या कहना है पेट्रोल पंप संचालकों का 
पेट्रोल पंप संचालकों का कहना है कि प्रदेश के लगते हुए गुजरात उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, मध्य प्रदेश और पंजाब में पेट्रोल की दरें अलग-अलग हैं, जिसका कारण असमान रेट का होना है. जब से पेट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी शुरु हुई है, तभी से डीजल की तस्करी हो रही है. राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुनीत बगई (Sunit Bagai) ने बताया कि राजस्थान में राज्य सरकार की ओर से वेट दरों में वृदिृध के कारण प्रदेश में पड़ोसी राज्यों की तुलना में करीब 5 से 10 रुपए तक महंगा है. उन्होंने कहा कि महंगाई से जनता की भी कमर टूट रही है. बगई ने कहा कि राज्य में पेट्रोल डीजल पर वैट कम करने और प्रदेश स्तर पर एक समान मूल्य रखे जाने की मांग को लेकर यह एक दिवसीय हड़ताल की जा रही है. मांगें नहीं मानने पर 25 अप्रेल से अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी भी उन्होंने दी है.

3 करोड़ लीटर पेट्रोल डीजल की बिक्री प्रभावित होने का अनुमान 
राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन की वेट स्टीयरिंग कमेटी एवं विधि परामर्शी राजेन्द्र सिंह भाटी (Rajendra Singh Bhati) ने बयान जारी कर प्रदेश के करीब 7 हजार पेट्रोल पंप बंद रहेंगे. इनके बंद रहने पर करीब 3 करोड़ लीटर पेट्रोल डीजल की बिक्री प्रभावित होने का अनुमान है, जिससे सरकार को रोड सेस सहित करीब 34 करोड़ रुपए सेस की हानि होगी. उन्होंने कहा कि एसोसिएशन ने पंजाब के समान वैट करने की मांग राज्य सरकार से की थी लेकिन उस पर ध्यान नहीं दिया गया. मुख्यमंत्री सहित सभी संबंधित अधिकारियों को इसके संबंध में ज्ञापन देकर राजस्थान में वैट पंजाब के समान करने की मांगी की थी और वार्ता के लिए समय भी मांगा था परन्तु न तो हमें समय मिला और न ही सरकार द्वारा इसके संबंध में कोई भी सकारात्मक कदम उठाया गया. 

क्या है एसोसिएशन का दावा 
एसोसिएशन का दावा है कि राज्य में पड़ोसी राज्यों से महंगा पेट्रोल और डीजल होने के कारण प्रदेश में इसकी बिक्री में 34 प्रतिशत तक की गिरावट आ गई है और डीलर्स के साथ सरकार को भी राजस्व का नुकसान हो रहा है. विशेषकर पंजाब के सीमावर्ती जिलों के पेट्रोल पंप ज्यादा प्रभावित हैं. उनकी डीजल की बिक्री 70 प्रतिशत तक गिर गई है. इस हड़ताल को विश्वकर्मा क्षेत्रीय ट्रांसपोर्ट व्यापार मंडल समिति, राजस्थान टैंकर ट्रांसपोर्टेशन एसोसिएशन ने भी समर्थन किया है. हड़ताल के दौरान आपातकालीन वाहनों अग्निशमन, एंबुलेंस और अन्य वाहनों को आपूर्ति की जाएगी.

दो साल में कितना बढ़ा वैट
बहरहाल, जब से राज्य में नवीन सरकार बनी है तब से लेकर लेकर करीब दो साल की अवधि में अब तक राज्य सरकार ने पेट्रोल पर वैट 26 प्रतिशत से बढ़ाकर 38 प्रतिशत और डीजल पर 18 से बढ़ाकर 28 प्रतिशत कर दिया है. इस प्रकार डीजल पर कुल 10 और पेट्रोल पर कुल 12 प्रतिशत की वृद्वि की गई. इसमें भी पेट्रोल पर 8 एवं डीजल पर 6 प्रतिशत की वैट वृद्धि केवल कोराना काल में की गई हालांकि राज्य सरकार ने 28 जनवरी को जनता को कुछ राहत देते हुए पेट्रोल और डीजल पर 2 प्रतिशत वैट कम किया है.