Hanuman Beniwal ने की RPSC चेयरमैन और सदस्यों की आय की CBI जांच की मांग, जानें मामला

बेनीवाल ने कहा कि पिछले कई सालों से RPSC की साख पर बट्टा लग गया है. पिछले 20 साल से RPSC चैयरमैन बने लोगों की सम्पति की जांच होनी चाहिए. 

Hanuman Beniwal ने की RPSC चेयरमैन और सदस्यों की आय की CBI जांच की मांग, जानें मामला
हनुमान बेनीवाल.

Delhi: नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल (Hanuman Beniwal) ने RPSC मामले में सीबीआई जांच की मांग की. बेनीवाल ने आज बड़ा आरोप लगा कर कहा कि अभी नहीं, पिछले 15 से 18 साल के कार्यकाल के दौरान RPSC चेयरमैन और सदस्यों की आय और रिश्तेदारों की जांच सीबीआई से करवाई जानी चाहिए.

यह भी पढ़ें- रघु शर्मा से बेनीवाल ने मांगा इस्तीफा, कहा-मंत्री के रूप में आप विफल साबित हुए

बेनीवाल ने कहा कि पिछले कई सालों से RPSC की साख पर बट्टा लग गया है. पिछले 20 साल से RPSC चैयरमैन बने लोगों की सम्पति की जांच होनी चाहिए. हबीब गौरान, एमएल कुमावत, सीआर चौधरी, ललित के पंवार, दीपक उप्रेती, शिव सिंह राठौड़, भूपेंद्र यादव के कार्यकाल में जमकर भ्रष्टाचार हुआ है. बेनीवाल ने कहा कि RPSC मेंबर शिव सिंह ने तो 200 करोड़ से ज्यादा की सम्पति कैसे बनाई इसकी जांच होनी चाहिए.

यह भी पढ़ें- क्या Rajasthan विधानसभा चुनाव में काम करेगा 'सहानुभूति फैक्टर', जानें किसका पलड़ा भारी

बेनीवाल ने कहा कि इन लोगों ने बड़ी संख्या में अपने रिश्तेदारों को RAS, RJS, RPS बनाकर लूट मचाई है. इन सब घटनाओं से प्रदेश में मेहनतकश युवाओं की उम्मीद पर पानी फेर दिया है. किसानों के बच्चे मेहनत कर के इंटरव्यू तक पहुंचते है फिर यह लोग लाखों रुपये में नंबरों के सौदे कर देते हैं. इससे RPSC की साख खत्म हो रही है. राजस्थान सरकार को इस मामले की जांच सीबीआई को देनी चाहिए और गंदगी को साफ करना चाहिए.

अभी हाल ही में जो 25 लाख रिश्वत से नम्बर का मामला सामने आया था, उसकी अगर एसीबी सही जांच करे तो इसके तार भूपेंद्र यादव तक पहुंचेंगे. बेनीवाल ने आरोप लगाया कि भूपेंद्र यादव ने बतौर DGP प्रदेश सरकार के संकट में बड़ी संख्या में फोन टेपिंग की थी, इसलिए सरकार ने उन्हें चैयरमैन बनाकर नवाजा.

Reporter- Manohar Vishnoi