जैसलमेर, झालावड़ के गांव के लोगों ने किया चुनाव का बहिष्कार, मांग पूरी न होने से हैं नाराज

झालावाड़ जिले की डग विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत रणायरा के कोलवा गुजर, बोरखेड़ी करमचंद, घटिया और कोलवा कंजर डेरा सहित 4 गांवो के लोगों ने मतदान का बहिष्कार कर सड़क पर जाम लगा दिया.

जैसलमेर, झालावड़ के गांव के लोगों ने किया चुनाव का बहिष्कार, मांग पूरी न होने से हैं नाराज
प्रतीकात्मक तस्वीर

जैसलमेर: भारत पाक सीमा पर बसे जैसलमेर जिले में एक गांव में लोगों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया है. जैसलमेर मुख्यालय से लगभग 35 किलोमीटर दूर कोटड़ी ग्राम पंचायत के सोडा गांव के लोगों नं एकमत होकर निर्णय लिया कि लोक सभा चुनाव 2019 में बाड़मेर जैसलमेर लोकसभा क्षेत्र के बूथ नंबर 262 पर 360 मतदातओं में से कोई भी वोट नहीं डालेगा. 

यहां के ग्रामीण इस बात से खफा हैं कि विगत एक माह से नलकूप बन्द पड़ा है. एक अप्रैल से सरकार ने पशु चारा केन्द्र खोलने की घोषणा की थी लेकिन आजतक पेयजल के लिए दर दर की ठोकरें खा रहे हैं. जैसलमेर विधायक रूपाराम धणदे एवं जिला प्रमुख अंजना मेघवाल के पास समस्या लेकर गए लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ. जलदाय विभाग के अधिकारियों के पास भी चक्कर काटकर कोई फायदा नहीं हुआ. अब यहां के लोगों ने निर्णय लिया कि मतदान नहीं करेंगे. गांव के निवासी सादुल सिंह ने बताया कि गांव में पानी की किल्लत से इंसान तो परेशान हैं ही लेकिन मूक जानवरों के लिए पानी चारे की व्यवस्था कैसे संभव हो.

वहीं दूसरी ओर झालावाड़ के भी आधा दर्जन गांव के लोगों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया है. इस गांव के लोग आजादी के बाद से ही सड़कों से वंचित हैं और हमेशा सरकार से सड़क बनाए जाने की मांग कर रहे हैं लेकिन कई सरकारे आने के बाद भी ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को सड़क जैसी मूलभूत सुविधा नहीं मिल पा रही.

झालावाड़ जिले की डग विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत रणायरा के कोलवा गुजर, बोरखेड़ी करमचंद, घटिया और कोलवा कंजर डेरा सहित 4 गांवो के लोगों ने मतदान का बहिष्कार कर सड़क पर जाम लगा दिया. इस बुथ पर 864 मतदाता है. दरअसल, ग्राम पंचायत रनायरा के 4 गावों के लोग आजादी के बाद से ही सड़क से वंचित हैं. 

उधर झालावाड़ जिले के खानपुर विधानसभा क्षेत्र के भगवानपुरा गांव के लोगों ने भी आज मतदान का बहिष्कार कर दिया. ग्रामीणों का कहना है गांव की मुख्य सड़क पर अतिक्रमण उन्हें दबंगई कर कब्जा कर रखा है लेकिन प्रशासन को सूचित करने के बावजूद भी इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई. ऐसे में नाराज ग्रामीणों ने आज मतदान का बहिष्कार कर दिया.