जोधपुर: खाप का तुगलकी फरमान, पूरे परिवार का हुक्का पानी बंद, बच्चों के खेलने पर भी रोक

खाप पंचायत की प्रताडना के खिलाफ पीड़ित भगवानाराम ने फलोदी पुलिस थाने में मामला दर्ज करवाया है.

जोधपुर: खाप का तुगलकी फरमान, पूरे परिवार का हुक्का पानी बंद, बच्चों के खेलने पर भी रोक
पुलिस जांच अधिकारी कुछ भी बोलने के इंकार कर रहे हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

जोधपुर: फलोदी पंचायत समिति की मोखेरी ग्राम पंचायत में एक परिवार को खाप पंचायत ने तुगलकी फरमान सुनाया है. पंचोंं का फैसला नहीं मानने पर भगवानाराम पालिवाल के परिवार को समाज से बहिष्कृत कर उनका हुक्का पानी बंद कर दिया. 

इस मामले में पीड़ित भगवानाराम पालिवाल ने फलोदी पुलिस थाने मे मामला दर्ज करवाया है. उन्होंने बताया है कि जमीन विवाद को लेकर पंचों का निर्णय नहीं माने जाने पर पंचों ने उसे परिवार सहित समाज से बहिष्कृत कर हुक्का पानी बंद कर दिया.

भगवानाराम ने यह भी बताया कि उसकी जमीन पर गांव के लोगों का कब्जा है. जिसका विरोध करने पर पंचों ने उसको जमीन छोड़ देने का फैसला सुना दिया. जिसे भगवानाराम व उसके परिवार ने मानने से साफ इंकार कर दिया. 

लगा दी गई ये पाबंदी
समाज के पंचों ने एक मत होकर फैसला लेते हुए भगवानाराम व उसके परिवार को समाज से बहिष्कृत कर हुक्का पानी बंद कर दिया है. इतना ही नही भगवानाराम के परिवार के किसी भी सदस्य को मंदिर व समाज की अन्य सामाजिक गतिविधियो मे शामिल होने पर पाबंदी लगा दी गई है. साथ ही बच्चों को समाज के बच्चों के साथ खेलने पर भी पाबंदी लगा दी गई है. 

15 पंचों के खिलाफ मामला दर्ज
समाज की प्रताडना के खिलाफ भगवानाराम ने फलोदी पुलिस थाने पहुंच कर पालिवाल समाज के 15 पंचों के खिलाफ मामला दर्ज कर न्याय की मांग की है. बताया जा रहा है कि पंचों में शामिल हेमराज पालिवाल डिस्कॉम कर्मचारी है. वहीं, दूसरा पंच रूपेन्द्र पालिवाल शिक्षक है.

पुलिस नहीं दे रही जवाब
इस मामले पर जब जी मीडिया की टीम ने पुलिस के जांच अधिकारियों से बात करनी चाही तो पुलिस ने इस मामले मे किसी भी तरह की कोई बात करने से इंकार कर दिया. 

देश के कानून से ऊपर एक और कानून
पुलिस के जवाब से ये तो साफ हो ही जाता है कि आज भी देश की कानून से ऊपर एक और कानून है. जिसके आगे पुलिस की कानून व्यवस्था कोई मायने नही रखती. जिसके चलते आज भी समाज के पंचों का फैसला चाहे कुछ भी हो मानना पड़ता है.