close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झुंझुनू लोकसभा: 2014 की मोदी लहर में बीजेपी ने कांग्रेस को उसके गढ़ में दी थी मात

राजस्थान के झुंझुनू लोकसभा क्षेत्र की बात करें तो 2014 में यहां से भारतीय जनता पार्टी के संतोश अहलावत ने जीत हासिल की थी लेकिन उससे पहले लगातार पांच बार कांग्रेस द्वारा ही इस क्षेत्र में जीत दर्ज की थी.

झुंझुनू लोकसभा: 2014 की मोदी लहर में बीजेपी ने कांग्रेस को उसके गढ़ में दी थी मात
2014 में यहां से भारतीय जनता पार्टी के संतोश अहलावत ने जीत हासिल की थी.

झुंझुनू: देशभर में होने वाले लोकसभा चुनावों को लेकर केंद्र और विपक्ष दोनों ही तैयारियों में जुट गए हैं. एक ओर जहां साल 2014 में बहुमत से सत्ता में काबिज हुई बीजेपी पर अपनी साख बचाने का और एक बार फिर सत्ता में आने का दबाव है. तो वहीं दूसरी ओर विपक्ष भी हर तरह से बीजेपी से सत्ता हासिल करने की तैयारियों में लगा हुआ है. इसी बीच राजस्थान की बात करें तो प्रदेश में कुल 25 लोकसभा सीटे हैं और 2014 में हुए आम चुनाव में बीजेपी द्वारा ही 25 की 25 सीटों पर जीत हासिल की गई थी. 

वहीं राजस्थान के झुंझुनू लोकसभा क्षेत्र की बात करें तो 2014 में यहां से भारतीय जनता पार्टी के संतोश अहलावत ने जीत हासिल की थी लेकिन उससे पहले लगातार पांच बार कांग्रेस द्वारा ही इस क्षेत्र में जीत दर्ज की थी. झुंझुनू लोकसभा क्षेत्र को कांग्रेस का गढ़ भी माना जाता है और यहां से 1996 से लेकर 2009 लगातार कांग्रेस के शीशराम ओला ने ही जीत का परंचम लहराया था. 

आपको बता दें, झुंझुनू लोकसभा क्षेत्र में कुल 7 विधानसभा क्षेत्र आते हैं. जिनमें झुंझुनूं, खेतड़ी, मंडावा, सूरजगढ़, पिलानी उदयपुरवाटी, नवलगढ़ और फतेहपुर शामिल है. हरियाणा की सीमा से सटे झुंझुनू लोकसभा क्षेत्र को सैनिकों के जिले के नाम से भी जाना जाता है. झुंझुनू जिले की हर गली, हर नुक्कड़ पर शहीदों की मूर्तियां बनाई हुई हैं. 

यह देखना दिलचस्प होगा कि झुंझुनू लोकसभा पर क्या एक बार फिर कांग्रेस सत्ता बनाने में कामयाब हो पाती है या नहीं. साथ ही यह भी दिलस्चप होगा कि 2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी इस क्षेत्र में जीत हासिल करने के लिए किस को मैदान में उतारती है.