जयपुर में अब नहीं होगी पानी की किल्लत, सीधे पाइपलाइनों से जुडेंगे 453 ट्यूबवेल

प्रोजेक्ट के जरिए जलदाय विभाग 453 ट्यूबवेल और खोदने जा रहा है जो सीधा पाइप लाइनों में जोड़े जाएंगे.

जयपुर में अब नहीं होगी पानी की किल्लत, सीधे पाइपलाइनों से जुडेंगे 453 ट्यूबवेल
बीसलपुर बांध में केवल 22 फीसदी ही पानी बचा है

आशीष चौहान/जयपुर: गर्मियां शुरू होने से पहले ही जलदाय विभाग इस कोशिश में जुट गया है कि इस बार प्रदेश के लोगों को पानी की किल्लत न झेलनी पड़े. बीसलपुर बांध में पानी की कमी को देखते हुए जलदाय विभाग एक के बाद एक नए प्रोजेक्ट की प्लानिंग कर रहा है. 279 ट्यूबवेल के नए प्रोजेक्ट के बाद में अब जलदाय विभाग एक और नया प्रोजेक्ट ला रहा है. 

इस प्रोजेक्ट के जरिए जलदाय विभाग 453 ट्यूबवेल और खोदने जा रहा है. जो सीधा पाइप लाइनों में जोड़े जाएंगे. ये ट्यूबवेल ऐसे पाइप लाइनों में जोडे जाएंगे,जहां पर पानी का कम प्रेशर आता है. गर्मी से पहले जलदाय विभाग की कोशिश रहेगी कि ट्यूबवेल खोदकर पानी की किल्लत को कम किया जा सके, लेकिन अभी फिलहाल वित्त विभाग की फाइल की मंजूरी का इतंजार है. ऐसे में अब जलदाय विभाग की नजरे वित्त विभाग पर टिकी हुई है. दूसरी तरफ अब जल्द ही 279 ट्यूबवेल का काम भी शुरु होने जा रहा है. ऐसे में पानी की किल्लत को देखते हुए अब जलदाय विभाग युद्ध स्तर पर तैयारी कर रहा है.

जी मीडिया खास बातचीत में मुख्य अभियंता आईडी खान ने बताया कि पानी की किल्लत को देखते हुए जलदाय विभाग ने फैसला लिया है. पानी के ट्यूबवेल और खोदे जाए, लेकिन इन ट्यूबवेल को टंकियों ने नहीं जोड़ा जाएगा बल्कि सीधा घरों में पाइपलाइन के जरिए ही जोड़ा जाएगा, ताकि जिन इलाकों में पानी की किल्लत रहती है वहां इस समस्या से निजात मिल सके. ये सभी 453 ट्यबूवेल जयपुर शहर में खोदे जाएंगे.

पानी की किल्लत से लड़ेगा जलदाय विभाग
बारिश कम होने की वजह से बीसलपुर बांध में पानी की कम आवक होने के बाद जलदाय विभाग लगातार मुस्तैदी से काम कर रहा है. बीसलपुर बांध में पानी की कमी होने लगी तो जलदाय विभाग ने 273 बंद पडे ट्यूबवेल से पानी लेना शुरू किया, जिसमें 32 करोड लीटर पानी उपलब्ध हो रहा है. इसके बाद जलदाय विभाग जयपुर शहर में 30 फीसदी तक पानी की कटौती की. कटौती तो कर दी,लेकिन इसके बावजूद भी गर्मियों को देखते हुए पानी की किल्लत के लिए 279 नए ट्यूबवेल खोदने की स्वीकृति जलदाय विभाग से मिली. जिसका काम 9 दिन में शुरू हो जाएगा. लेकिन जहां पानी का दबाव कम है या फिर पानी की गति धीमी है, उन इलाकों के लिए 453 ट्यूबवेल और खोद जाएंगे.

मुख्य अभियंता आईडी खान का कहना है कि जल्द ही वित्त विभाग से फाइल मंजूरी के बाद में ट्यूबवेल का काम शुरू किया जाएगा. बीसलपुर बांध में केवल 22 फीसदी ही पानी बचा है, ऐसे में अब जल्द से जल्द फाइल की मंजूरी के बाद काम शुरू किया जाएगा ताकि गर्मियों में पानी की किल्लत से बचा जा सके.