close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान चुनाव: कांग्रेस के बागी उम्मीदवारों के नामांकन का सिलसिला जारी, पार्टी के लिए बढ़ सकती है मुश्किलें

 राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की घोषणा के बाद से राज्य भर में कांग्रेस के कई बागी उम्मीदवार पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए नामांकन कर रहे हैं. 

राजस्थान चुनाव: कांग्रेस के बागी उम्मीदवारों के नामांकन का सिलसिला जारी, पार्टी के लिए बढ़ सकती है मुश्किलें
प्रतीकात्मक फोटो.

जयपुर: राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की घोषणा के बाद से राज्य भर में कांग्रेस के कई बागी उम्मीदवार पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए नामांकन कर रहे हैं. आज अजमेर दक्षिण विधानसभा सीट से कांग्रेस के नेता और पूर्व मंत्री ललित भाटी ने समर्थकों के साथ पहुंच कर नामांकन किया है. ललित यहां से कांग्रेस के टिकट के प्रबल दावेदार थें. लेकिन कांग्रेस ने यहां से हेमंत भाटी को उम्मीदवार घोषित कर रखा है. माना जा रहा है कि बागी उम्मीदवार के रूप में नामांकन करने के बाद कांग्रेस की यहां से मुश्किले बढ़ेगी. 


अजमेर दक्षिण विधानसभा सीट से कांग्रेस के बागी उम्मीदवार ललित भाटी

वहीं भीलवाड़ा से कांग्रेस के बागी ओम नरानीवाल ने नामांकन दाखिल किया है. नरानीवाल यहां से टिकट के प्रबल दावेदार रहे थें. अपने समर्थको के दम पर निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर मैदान में उतरे नरानीवाल ने भी अपनी जीत का दावा किया है. वैसे कांग्रेस ने भीलवाड़ा से अनिल डांगी को टिकट दिया है.

वैसे ओम नरानीवाल और उनके समर्थकों का मानना है कि भीलवाड़ा से जीती हुई सीट कांग्रेस ने बीजेपी को तोहफे में पहले ही दे दी है. उनके समर्थकों का कहना है कि पार्टी के इस निर्णय से पार्टी के दिग्गज नेता भी नाखुश हैं. जिस कारण डांगी के नामांकन में पार्टी का कोई भी बड़ा नेता नहीं पहुंचा था. माना जा रहा है कि भीलवाड़ा विधानसभा सीट पर ओम नरानीवाल  के नामांकन से त्रिकोणीय संघर्ष हो सकता है और कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. 

वहीं चूरू के तारानगर विधानसभा सीट से कांग्रेस के टिकट के प्रबल गावेकार रहें डॉ सीएस बैद का चुनाव लड़ना तय माना जा रहा है. उम्मीद है कि डॉ सीएस बैद निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन के अंतिम दिन 
19 नवंबर को पर्चा दाखिल करेंगे. इसके बाद बैद का बीजेपी में शामिल होने के कयास पर विराम लग गया है.