राजस्थान: 15 हजार लीटर से कम पानी इस्तेमाल किया तो बिल में मिलेगी छूट

पहले 8 हजार लीटर तक यूज करने वाले उपभोक्ताओं को 79 रूपए देना पडता था, लेकिन अब तक उपभोक्ताओं को केवल 50 रूपए ही देना पडेगा

राजस्थान: 15 हजार लीटर से कम पानी इस्तेमाल किया तो बिल में मिलेगी छूट
इस फैसले से करीब 56 लाख उपभोक्ताओं को राहत मिलेगी

आशीष चौहान/जयपुर: जलदाय विभाग ने पानी के बिलों की नई रेट्स जारी की है. अब शहर में घरेलू उपभोक्ताओं का महीने का बिल सिर्फ 50 रूपए ही आएगा. जिसके बाद उपभोक्ताओं को 73 रूपए तक का फायदा होगा, लेकिन वहीं जलदाय विभाग पर वित्तिय भार पडेगा. इस फैसले के बाद करीब 56 लाख उपभोक्ताओं को राहत मिलेगी.

पहले 8 हजार लीटर तक इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं को 79 रूपए देना पड़ता था, लेकिन अब उपभोक्ताओं को केवल 50 रूपए ही देना पडेगा. यानि अब 8 हजार लीटर इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं को 29 रूपए का फायदा होगा. वहीं 15 हजार लीटर तक उपयोग करने वाले उपभोक्ताओं को 123 रूपए का बिल आएगा. यानि उपभोक्ताओं को 73 रूपए का फायदा होगा. वहीं उपभोक्ताआ 15 हजार लीटर से ज्यादा का पानी इस्तेमाल करेगा तो उसे कोई छूट नहीं मिलेगी.

जलदाय विभाग द्वारा जारी की गई नई रेट्स 1 अप्रैल से जारी होगी. जब तक उपभोक्ताओं को पुरानी रेट्स के आधार पर ही बिल जमा करवाने होंगे. 1 अप्रैल के बाद शहरी उपभोक्ताओं को वाटर चार्जेज, सीवरेज चार्जेज और डवलवमेंट चार्जेंज नहीं देने होंगे. ग्राहकों को सिर्फ रेनोवशन चार्जेज ही देने होंगे. इसके अलावा शहरी फ्लैट रेट उपभोक्ताओं का महीने में केवल 36 रूपए का बिल आएगा. 

बता दें कि ग्रामीण परियोजना से जुडे उपभोक्ताओं को 3 रूपए 85 पैसे प्रतिलीटर वाटर चार्जेज देना होता था, जिसमें करीब करीब एक उपभोक्ता का बिल साढे 55 रूपए तक आता था, लेकिन अब उपभोक्ताओं को केवल साढे 27 रूपए रिनोवेशन चार्जेंज ही देना होगा. कुल मिलाकर ग्रामीण उपभोक्ताओं को मुफ्त में पानी मिलेगा. इससे गांव की 2 करोड़ 8 लाख से ज्यादा आबादी को बडी राहत मिलेगी. 

इसके अलावा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निर्देश दिए थे कि राजस्थान में जलदाय विभाग की ओर से विशेष अभियान चलाया जाए और खराब पानी के मीटरों को सुधारा जाए. जलदाय विभाग 2 साल तक विशेष अभियान चलाकर खराब पानी के मीटरों को बदलेगी. जयपुर में करीब 27 लाख कनेक्शन है,जिसमें से 50 फीसदी पानी के मीटर खराब पड़े है.