बाड़मेर: किसानों की मुसीबत बना पाकिस्तान से आए दुश्मनों का समूह, करोड़ों की फसलें बर्बाद

पिछले 6 महीनों से लगातार टिड्डी बाड़मेर जिले में किसानों पर कहर बरपा रही है लेकिन बाड़मेर जिले से केंद्र में कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी और राज्य सरकार में हरीश चौधरी दोनों किसान वर्ग से आते हैं.

बाड़मेर: किसानों की मुसीबत बना पाकिस्तान से आए दुश्मनों का समूह, करोड़ों की फसलें बर्बाद
6 महीनों से हालात बिगड़े हुए बावजूद इसके अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

भूपेश आचार्य, बाड़मेर: सीमा पार से लगातार टिड्डियों के प्रकोप के चलते पश्चिमी राजस्थान के किसान बेहाल है. आलम यह है कि किसानों की सुनने को कोई तैयार नहीं है और टिड्डी ने पिछले तीन दिनों में करोड़ों की फसल को पूरी तरह नष्ट कर दिया है. 

इसके बाद किसानों का मोर्चा संभालते हुए कर्नल सोनाराम चौधरी ने किसानों के साथ जिला कलेक्टर से मुलाकात कर कलेक्टर को खरी-खोटी सुनाते हुए तत्काल कार्रवाई की मांग की. कर्नल सोनाराम चौधरी ने कहा कि 6 महीनों से हालात बिगड़े हुए बावजूद इसके अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. 

पिछले 6 महीनों से पाकिस्तान से आ रही टिड्डी को रोकने के लिए केंद्र और राज्य सरकार दोनों पूरी तरह विफल नजर आ रही है, जिसका नतीजा यह है कि किसानों के खेतों में खड़ी करोड़ों रुपये की रबी की फसल जीरा ईसब गोल सरसों को टिड्डियों ने पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है. किसानों की हालत बहुत ही दयनीय हो गई है. टिड्डियों का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है, वहीं टिड्डी नियंत्रण के अधिकारी किसानों की सुनने को तैयार ही नहीं है, जिसके बाद अब पूर्व सांसद कर्नल सोनाराम चौधरी किसानों के साथ बाड़मेर के जिला कलेक्टर से टिडडी को लेकर मुलाकात की. इस दौरान कर्नल सोनाराम चौधरी ने कहा कि 6 महीने से लगातार बॉर्डर टिडडी है लेकिन किसी को परवाह नहीं है. आज मैंने कलेक्टर से मुलाकात कर तुरंत मुआवजे के ऐलान को लेकर मांग की है. 

इस पूरे मामले पर बाड़मेर जिला कलेक्टर अंशदीप का कहना है कि जिस तरीके से बाड़मेर में पाकिस्तान से लगातार टिड्डी आ रही है, यह पहला मौका होगा, जब इतनी भारी मात्रा में टिड्डी ने अचानक अटैक किया है और इसके रोकथाम के लिए पूरे इंतजाम किए जा है. हमने अपने रेवेन्यू डिपार्टमेंट के अधिकारियो से 2 दिन में खराब फसलों की पूरी रिपोर्ट मंगवाई है. यह रिपोर्ट हम राज्य सरकार को भेजेंगे. उसके बाद तत्काल मुआवजे की कार्रवाई की जाएगी. वहीं किसानों को कहा गया है कि जिस तरीके से टिड्डी लगातार आ रही है. ऐसे में अगर कोई सूचना हो तो तुरंत प्रभाव से वह तहसीलदार या जिला प्रशासन को तुरंत दे हम काबू पाने के लिए पूरी कोशिश कर रहे हैं. 

दरअसल, पिछले 6 महीनों से लगातार टिड्डी बाड़मेर जिले में किसानों पर कहर बरपा रही है लेकिन बाड़मेर जिले से केंद्र में कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी और राज्य सरकार में हरीश चौधरी दोनों किसान वर्ग से आते हैं लेकिन किसानों के बीच जाकर एक बार भी उनकी पीड़ा नहीं सुनी है. इस टिड्डी हमले के बाद किसानों की आर्थिक एवं मानसिक स्थिति दयनीय होती जा रही है और दोनों मंत्री एक दूसरे पर आरोप लगा कर राजनितिक रोटियां सेंकने में व्यस्त हैं.