close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा में तीन दिन से लगातार हो रही बारिश से परेशान हुए लोग, कई इलाकों में आई बाढ़

बारां जिलें से पार्वती, परवन, काली सिंध नदी पूरें उफान पर चल रही हैं. वही राजस्थान से लगी मध्यप्रदेश की सीमा के कई मार्ग अवरूद्ध हो गए हैं. 

कोटा में तीन दिन से लगातार हो रही बारिश से परेशान हुए लोग, कई इलाकों में आई बाढ़
बारां शहर में अधिकाश क्षेत्रों में पानी भरने से लोग सहमें हुए हैं.

बारां: जिलें में पिछलें तीन दिन से हो रही भारी बरसात से हाहाकर मचा हुआ है. दर्जनों गांव टापू बन गए है तो जिला मुख्यालय से कई उपखण्ड मुख्यालयों का सम्पर्क कट गया है. जिसके चलते शुक्रवार को जिले में सभी स्कूलों को बंद रखा गया है.

बारां जिलें से पार्वती, परवन, काली सिंध नदी पूरें उफान पर चल रही हैं. वही राजस्थान से लगी मध्यप्रदेश की सीमा के कई मार्ग अवरूद्ध हो गए हैं. वही रात में कोटा से गुना, बीना रूट पर चलने वाली ट्रेनों को रोक दिया था. जिसके कारण यात्रियों को भी परेशानी हो रही है. गुरुवार शाम से कवाई के पास बस में फंसें 40 से 50 लोगों को आज सुबह रेस्क्यू करके बाहर निकाला गया है. 

वहीं जिले में कई एनडीआरएफ टीम को सूचना मिलने पर लोगों को निकालने का काम तेजी से चल रहा है. बारां शहर में भी अधिकाश क्षेत्रों में पानी भरने से लोग सहमें हुए हैं. जिला प्रशासन ने भी अलर्ट जारी कर रखा है. छबड़ा- छीपाबड़ौद भी बाढ से बुरी तरह से प्रभावित हैं. यहा घर दुकानों में पानी भर गया है और बाजार तालाब बन गए हैं. दुकानों में भरे पानी से लोगों का लाखों का नुकसान हो गया है और लोग घर के दूसरी मंजिल पर कैद हो गए हैं. 

ल्हासी बांध से 16 हजार क्यूसिक पानी छोड़ने से दर्जनों गांव में पानी भर गया है. वहीं रात में ट्रेनों को भी छबडा और अटरू में रोक दिया गया है. जिन्हें अब सुबह संचालन के लिए बहाल किया जा रहा है. वहीं अटरू चिकित्सालय में पानी भर गया है. जिससें भारी परेशानी हो रही है. बारां से झालावाड़, श्योपुर, गुना, छबड़ा, छीपाबडौद सहित कई मार्ग बंद हैं तो कई जगह लोग पानी के साथ अटखेलिया और पुलिया पार कर जान जोखिम में डालने से बाज नही आ रहें है.